सागर …….महासागर

लोग मेरे  पास  आते  है     निहारते  है  मुझे दूर तक , दूर  क्षितिज  तक    दिखता  है  मेरा    नीलाभ  फैलाव  मै हूँ  

Read more