कहाँ रखा जायेगा खरीदे गये गेहूँ को

 

 

धान भण्डारण से भरे हुए हैं वेयर हाऊस

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। अभी सरकारी स्तर पर खरीदी गयी धान का भण्डारण भी पूरा नहीं हो पाया है और सोमवार से गेहूँ की खरीदी आरंभ हो गयी है। इन परिस्थितियों में यक्ष प्रश्न यही खड़ा हुआ है कि सरकारी स्तर पर खरीदे गये गेहूँ का भण्डरण कहाँ किया जायेगा। दो माह बाद बारिश के समय इस गेहूँ का सुरक्षित रखना भी प्रशासन के लिये चुनौति से कम नहीं होगा।

जिले में हजारों क्विंटल धान भण्डारण के लिये शेष है। इस बीच सोमवार से गेहूँ की खरीदी आरंभ हो गयी है। गेहूँ की खरीदी आरंभ होने के साथ ही अधिकारियों के माथे पर उसके भण्डारण को लेकर बल पड़ने लगे हैं। बताया जाता है कि जिले के सभी वेयर हाउस भरे हुए हैं।

नागरिक आपूर्ति निगम के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि अब सरकारी स्तर पर खरीदे जाने वाले गेहूँ का भण्डारण कहाँ किया जायेगा, इसको लेकर अभी तक किसी तरह की कार्य योजना नहीं बनायी गयी है। धान के परिवहन में जिस तरह लेट लतीफी बरती गयी उसी तरह का आलम गेहूँ का भी रहा तो इस बार भी बड़ी मात्रा में गेहूँ के सड़ने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार समर्थन मूल्य पर गेहूँ, चना और मसूर को बेचने के लिये जिले में 67 हजार किसानों ने पंजीयन कराया है। खाद्य आपूर्ति विभाग के अनुसार 62 हजार किसानों ने गेहूँ बेचने के लिये पंजीयन कराया है। 15 हजार किसानों ने चना और मसूर की उपज को बेचने के लिये पंजीयन कराया है।

इस बार शासन 1840 रुपये के समर्थन मूल्य पर गेहूँ की खरीदी कर रहा है। जिला प्रशासन ने 62 हजार किसानों से गेहूँ की खरीदी करने के लिये जिलेभर में 81 खरीदी केन्द्र बनाये हैं। चना और मसूर के कितने केन्द्र बनाये गये हैं और कितने दाम पर शासन उन दोनों उपज को खरीदेगा, इसकी जानकारी अभी नहीं मिल पायी है। विभाग की माने तो 24 मई तक खरीदी की जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *