मना भगवान आदिनाथ का जन्मकल्याणक

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। आचार्यश्री विद्यासागर महाराज की परम प्रभाविका शिष्या आर्यिका दृढ़मति माताजी एवं आर्यिका तपोमति माताजी सहित 37 माताजी के ससंघ सानिध्य में बड़े जैन मंदिर के समक्ष मानस्तंभ व मंदिरजी में विराजित प्रथम तीर्थकर भगवान आदिनाथ का जन्म कल्याणक भक्तिभाव के साथ मनाया गया।

गुरूकुल जबलपुर से पहुँचे प्रकाण्ड विद्वान पं.त्रिलोक ब्रह्मचारी महाराज ने कार्यक्रम का मंच संचालन कर भगवान आदिनाथ का महा मस्तकाभिषेक संपन्न कराया। शांतिधारा का वाचन आर्यिका दृढ़मति माताजी के मुखारबिंद से हुआ। उन्होंने धर्मसभा को संबोधित करते हुए कहा कि हमारे प्रथम तीर्थकर भगवान आदिनाथ ने ही असी, मसी और कृषि का जयघोष किया।

उन्होंने कहा था कि कृषि करो या ऋषि बनो, दान देने से धन अनंत गुना हो जाता है। वैराग्य की ओर विरले लोग ही बढ़ते हैं और वे महापुरूष बन जाते हैं। आदिनाथ ने जन्म लेकर वन की ओर गमन किया और वे सारे संसार के पूज्यनीय हो गये। माताजी ने कहा कि स्थानीय जैन समाज का सौभाग्य है कि वर्ष 2002 में भी भगवान आदिनाथ का जन्म कल्याणक आर्यिका दृढ़मति माताजी की प्रेरणा से प्रारंभ हुआ था, तब से हर साल उक्त महोत्सव भक्तिभाव से मनाया जा रहा है।

मान स्तंभ में हुई शांतिधारा : समाज के उत्तम पात्रों में सेठ प्रमोद कुमार, प्रदीप कुमार, नीलेन्द्र जैन छपारा, शीलचंद जैन, प्रभात गोयल, सुदर्शन बाझल, सनत, सुधीर, सुबोध बाझल, निर्मल बाझल ने पीत वस्त्र धारण कर मान स्तंभ में विराजे भगवान आदिनाथ का महा मस्तकाभिषेक व शांतिधारा की।

महाआरती पाठशाला परिवार द्वारा की गयी। ब्रह्मचारी त्रिलोक ने कहा कि जीवन जीने के साथ जीवन को अमर बनाने की कला भगवान आदिनाथ ने ही सिखायी। प्रातःकाल श्रीजी को पालकी में विराजित कर प्रभात फेरी निकाली गयी। बड़े जैन मंदिर को इस पर्व पर रोशनाई से जगमगा दिया गया।

रात्रि में विश्वशांति की कामना से भक्त पाठ का वाचन कर श्रद्धालुओं ने पुण्य संचय किया। स्थानीय पार्श्वनाथ पाठशाला की मुक्तकण्ठ से प्रशंसा करते हुए माताजी ने कहा कि पाठशाला के चहुंँमुखी विकास में सभी लोग स्वेच्छा से सहयोग देते रहं। साथ ही जंगल की सुचारू व्यवस्था के लिये भी माताजी ने समाजजनों को संकेत दिये। इस मौके पर पार्श्वनाथ पाठशाला को चातुर्मास समिति ने दिव्य घोष वाद्ययंत्र प्रदाय किया।

3 thoughts on “मना भगवान आदिनाथ का जन्मकल्याणक

  1. Pingback: muscular sex dolls
  2. Pingback: immediate edge

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *