भाजपा से त्यागपत्र दे बोध सिंह ने भरा नामाँकन

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। भाजपा ने निर्वतमान सांसद बोध सिंह भगत का टिकिट काटकर डॉ.ढाल सिंह बिसेन को बनाया है। निर्वतमान सांसद बोध सिंह भगत ने भाजपा से बगावती तेवर दिखाते हुए मंगलवार को सुबह निर्दलीय नामाँकन भर दिया।

इसके साथ ही उन्होंने भाजपा की प्राथमिक सदस्यता से भी स्तीफा दे दिया। उन्होंने अपना स्तीफा जिलाध्यक्ष रमेश रंगलानी को भेजा है। उन्होंने अपने स्तीफे का कोई कारण नहीं बताया है।

बताया जाता है कि भाजपा ने बोध सिंह भगत का टिकिट काटकर चार बार विधायक रहे डॉ.ढाल सिंह बिसेन को टिकिट दे दिया था। इसके बाद से ही वे पार्टी से नाराज चल रहे थे। उन्होंने कहा कि गौरी शंकर बिसेन के दबाव में उनका टिकिट काटा गया है, बस इसी अन्याय के खिलाफ वे चुनाव लड़ रहे हैं।

बोध सिंह भगत ने अपने सोशल मीडिया के जरिये अपील की थी कि पर्चा भरने के लिये जाते समय उनके साथ ज्यादा से ज्यादा लोग शामिल हों। बालाघाट से डॉ.ढाल सिंह बिसेन ने सोमवार को ही पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ अपना नामाँकन भरा था। टिकिट कटने के बाद बोध सिंह भगत को मनाने के कई दौर चले और प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत उन्हें मनाने बालाघाट गये थे, लेकिन वे नहीं माने और आखिरकार उन्होंने निर्दलीय पर्चा दाखिल कर दिया।

गौरी शंकर बिसेन के दबाव में है पार्टी : भाजपा के वर्तमान सांसद बोध सिंह भगत ने बताया कि प्रभात झा और नरोत्तम मिश्रा ने उनसे बातचीत की थी और नामाँकन नहीं भरने का आग्रह भी किया, लेेकिन उन्होंने दोनों नेताओं से साफ कर दिया कि अभी भी वक्त है, हारने वाले का टिकिट बदल देंगे तो पार्टी का भला होगा, लेेकिन उनकी नहीं सुनी गयी।

अन्याय के खिलाफ लड़ रहा हूं चुनाव : भगत ने कहा कि भाजपा ने गौरी शंकर बिसेन के दबाव में उनका टिकिट काटा गया है, जबकि उनके खिलाफ किसी तरह का कोई आरोप नहीं थे। उन्होंने क्षेत्र में जितने विकास कार्य कराये, उतने मंत्री रहते हुए गौरी शंकर बिसेन ने नहीं करा पाये। इसके बाद भी उनका टिकिट काटा गया। वे इसी अन्याय के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं।

ढाल सिंह कमजोर प्रत्याशी : बोध सिंह भगत ने कहा कि ढाल सिंह कमजोर प्रत्याशी हैं और किसी भी सूरत में चुनाव जीतने की स्थिति में नहीं हैं। वो सिवनी जिले के रहने वाले हैं। अगर योग्य होते तो पार्टी उन्हें सिवनी से लड़वाती, इसके पहले दो बार केवलारी से चुनाव हार चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *