गली-गली बिक रही अवैध शराब!

(संतोष बर्मन)

घंसौर (साई)। तहसील मुख्यालय घंसौर में अवैध शराब के कारोबार पर पुलिस और आबकारी विभाग अंकुश लगाने में पूरी तरह असफल ही प्रतीत हो रहा है। एक लाईसेंस की आड़ में स्थान – स्थान पर धड़ल्ले से शराब बेची जा रही है और पुलिस तथा आबकारी विभाग हाथ पर हाथ रखे ही बैठा नजर आ रहा है।

घंसौर क्षेत्र में अवैध शराब पर अंकुश लगाने में आबकारी विभाग के साथ ही साथ पुलिस विभाग भी असफल ही दिख रहा है। अवैध शराब बेचने वालों के हौसले इस कदर बुलंदी पर हैं कि थाने से महज पाँच सौ मीटर की दूरी पर अवैध शराब धड़ल्ले से बिक रही है।

हो रही पैकारी : बताया जाता है कि घंसौर में ठेकेदार के द्वारा पैकारी (शराब को अवैध रूप से बिकवाना) जमकर करवायी जा रही है। शराब की पेटियां, दो और चार पहिया वाहनों में लादकर आसपास के क्षेत्रों में बेची जा रही हैं। ठेकेदार के गुर्गों के द्वारा मनमानी दरों पर खुलेआम शराब बेची जा रही है।

घंसौर में शहर के लिये शराब दुकान का लाईसेंस दिया गया है, किन्तु ठेकेदार के गुर्गों के द्वारा शिकारा, दिवारी, बिनेकी, बरेला, बरोदा, मेहता, बालपुर, गोरखपुर, चारगाँव, केदारपुर, झुरकी, सेलुया, सारसडोल, भिलाई सहित आसपास के गाँव में ले जाकर खुलेआम बेची जा रही है।