साध्वी के साथ जेल में नहीं हुआ कोई टार्चर

 

 

 

 

 

करकरे के जूनियर ने दिया भोपाल में बयान

(ब्‍यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। हाईप्रोफाइल बन चुकी भोपाल लोकसभा सीट पर अब दिग्विजय सिंह और साध्वी प्रज्ञा के अलावा एक और उम्मीदवार की चर्चा है। मुंबई हमले में शहीद हेमंत करकरे के जूनियर व महाराष्ट्र के रिटायर्ड अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर रियाजुद्दीन गयासुद्दीन देशमुख अब भोपाल से चुनाव लड़ेंगे।

उन्होंने कहा कि जिस तरह के टार्चर की बात साध्वी कर रही हैं, ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। कोर्ट में उनके बयान होते हैं, अगर टार्चर किया गया होता तो वे कोर्ट में अपने बयानों में यह बात कहतीं, जो उन्होंने नहीं कही। दिग्विजय सिंह पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि वे डर्टी पालीटिक्स कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि शहीद हेमंत करकरे पर हुई राजनीति से आहत होकर मैंने भोपाल लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने का फैसला किया। उन्होंने बताया कि उनके दादा ने इस्लाम धर्म अपनाया था, तब से नाम के साथ देशमुख लगाते आ रहे हैं।

देशमुख ने बताया कि 1988 में अकोला में वे सब इंस्पेक्टर थे तब हेमंत करकरे उनके बॉस थे। उन्होंने बताया कि हेमंत करकरे हमेशा मन लगाकर काम करने के लिए कहते थे। उन्होंने बताया कि 2012 से 16 तक अमरावती क्राइम ब्रांच के इंचार्ज रहे हैं। वहीं 2016 में महाराष्ट्र पुलिस से एसीपी के पद से रिटायर हुए हैं।

One thought on “साध्वी के साथ जेल में नहीं हुआ कोई टार्चर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *