पाचन को ठीक करने में काम आती है इमली

 

 

 

 

इमली एक ऐसी चीज है, जिसे देख सबके मुंह में पानी आ जाता है। कच्ची हो या पक्की इमली, खाने को स्वादिष्ट बना देती है इमली। बहुत से ऐसे भी लोग हैं, जो सोचते हैं कि इमली खाने से नुकसान होता है। लेकिन इमली के कुछ ऐसे फायदे होते हैं, जिनके बारे में जानकर आप चौंक जाएंगे। इमली ना सिर्फ पाचन, डाइजेशन या दिल को स्वस्थ रखने में काम आती है बल्कि बिच्छु के काटने पर भी आप इमली का उपयोग कर सकते हैं। आईए जानते हैं कैसे आती है एक इमली इन चीजो में काम।

दिल को रखता है स्वस्थ

इमली पर की गई स्ट्डीज में बताया गया है कि इमली से बल्ड प्रेशर और बल्ड कोलेस्ट्रॉल कम होता है। इसके साथ ही इमली रेड बल्ड सेल बनाने में भी मदद करती है।

वजन घटाने में करती है मदद

इमली में हाइड्रोऑक्साइट्रिक एसिड होता है, जो शरीर के फैट्स बर्न करने में मदद करता है। साथ ही इससे वजन घटाने में मदद मिलती है।

डाइजेशन में करता है मदद

इमली खाने से डाइजेशन प्रोसेस को ठीक रखने में मदद करता है। इमली में फाइबर होता है, जो डाइजेस्ट करने में मदद करता है। डायरिया से लेकर कॉन्सटिपेशन जैसे पाचल संबंधी के ट्रीटमेंट में इमली मदद करती है।

कैंसर से बचने में आता है काम

कैंसर मरीजों के लिए बहुत फायदेमंद है इमली। इमली में एंटीऑक्सीडेंट और टैरट्रिक एसिड होता है, जो शरीर में कैंसल सेल्स को बढ़ने से रोकता है।

डायबिटीज कंट्रोल करती है इमली

डायबिटीज मरीजों के लिए भी इमली है फायदेमंद। इमली बल्ड शुगर लेवल को कंट्रोल करने में मदद करती है। साथ ही इमली शरीर में काबोर्टाइड्रेट्स को एबजॉर्ब होने से रोकती है। बता दें कि काबोर्टाइड्रेट्स एबजॉर्ब होने से ही शुगर लेवल बिगड़ता है। एक छोटा ग्लास इमली का जूस इसके लिए बहुत फायदेमंद होगा।

लू से बचाएगी इमली

गर्मियों में सबको लू लगती है, जिससे तबियत खराब हो जाती गै। लू से बचने के लिए आप इमली का प्रयोग कर सकते हैं। इसके लिए आप 1 ग्लास पानी में 25 ग्राम इमली भिगोकर इसका पानी पीएं। इसे पीने से लू नहीं लगती।

बिच्छु के काटने पर भी आती काम

सिर्फ खाने-पीने के लिए ही नहीं बल्कि इमली से आप बिच्छु के जहर को कम कर देता है। अगर कभी किसी इंसान को बिच्छु काट जाए, तो तभी इमली के दो टुकड़े कर लें और उसे बिच्छु की काटी हुई जगह पर लगा दें। इससे फायदा होगा।

(साई फीचर्स)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *