शुभाश्री को नहीं दी गयी श्रृद्धांजलि!

 

 

सीआरपीएफ की महिला जवान की हुई थी सड़क दुर्घटना में मौत

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। देश में जब भी सेना के जवानों की शहादत की खबरें आती हैं उसके बाद शहर के अनेक संगठनों के द्वारा स्थान – स्थान पर मोमबत्ती को प्रज्ज्वलित किया जाकर दिवंगत जवानों को श्रृद्धा सुमन अर्पित किये जाते रहे हैं।

शुक्रवार 26 अप्रैल को गुजरात के गाँधी नगर से बालाघाट जा रहे सीआरपीएफ के दस्ते में शामिल महिला आरक्षक शुभाश्री बण्डोल थानांतर्गत एक सड़क हादसे में घायल हो गयीं थीं। उन्हें जिला अस्पताल में उपचार नहीं मिला। बाद में निजि अस्पताल में उनकी प्राथमिक चिकित्सा होने के बाद उन्हें नागपुर रेफर कर दिया गया, जहाँ उनका निधन हो गया था।

इस पूरे मामले में सिवनी में सर्व सुविधा युक्त सरकारी अस्पताल होने के बाद भी अर्द्ध सैनिक बल की एक महिला आरक्षक को उपचार न मिल पाने के मामले में सत्तारूढ़ काँग्रेस और विपक्ष में बैठी भाजपा को इतनी फुर्सत नहीं मिल पायी कि उनके विज्ञप्तिवीरों के द्वारा व्यवस्था पर प्रहार करते हुए दिवंगत शुभाश्री को श्रृद्धांजलि अर्पित की जाती।

इतना ही नहीं जब भी सीमा पर अथवा कहीं भी सेना के जवानों की शहादत की बात सामने आती है तब मोमबत्ती लेकर चौक – चौराहों पर उन्हें श्रृद्धांजलि देने वाले लोग भी शुभाश्री को श्रृद्धांजलि देने सामने नहीं आये। यहाँ तक कि महिलाओं के अधिकारों के संरक्षण का दावा करने वाले गैर राजनैतिक संगठनों के द्वारा भी इस मामले में मौन ही साधे रखा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *