आधा दिन निकल रहा पानी की जुगाड़ में

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। गर्मी के मौसम में पानी की मारामारी इस कदर मची है कि लोगों का आधा दिन पानी की जुगाड़ में ही निकल जा रहा है। लोगों का कहना है कि नवीन जलावर्धन योजना के ठेकेदार के द्वारा तय समय सीमा में काम को पूरा नहीं किया गया फिर भी पालिका के द्वारा ठेकेदार के खिलाफ कार्यवाही नहीं की जा रही है।

एक ओर जहाँ अनेक स्थानों पर पानी की त्राहि त्राहि मच रही है, वहीं दूसरी ओर नगर पालिका नलों में टोंटियां लगवाने, पानी की फिजूल खर्ची पर रोक लगाने में पूरी तरह नाकाम ही नजर आ रही है। ऐसे में सैकड़ों गैलन पीने का पानी सड़क, नाली से होकर व्यर्थ ही बह रहा है।

जानकारों का कहना है कि अभी मई माह आरंभ हुआ है, अगर हालात नहीं सम्हले तो आने वाले समय में मई और जून की गर्मी और भी विकराल रूप धारण कर सकती है। पानी की किल्लत के चलते पशुओं के लिये भी पानी की समस्या उत्पन्न होने के आसार बनते दिखने लगे हैं।

बताया जाता है कि शहर के पास लखनवाड़ा से होकर गुजरने वाली बैनगंगा नदी लगभग सूख चुकी है। इधर मठ तालाब, ललमटिया तालाब, मोती नाला, रेल्वे स्टेशन वाले तालाबों और अन्य स्थानों पर पानी बहुत ही कम रह गया है। ऐसे में आने वाले दिनों में दैनिक आवश्यकता के लिये भी पानी मिलना मुश्किल हो सकता है।

शहर के अकबर वार्ड, ज्यारत नाका, भगत सिंह वार्ड, आधुनिक कॉलोनी, मंगलीपेठ, द्वारका नगर, विवेकानंद वार्ड, मठ मंदिर क्षेत्र, आज़ाद वार्ड, दादू धर्मशाला क्षेत्र, महावीर वार्ड, डूण्डा सिवनी क्षेत्र, टैगोर वार्ड, राजपूत कॉलोनी क्षेत्र, शुक्रवारी क्षेत्र, रानी दुर्गावती वार्ड गंज क्षेत्र सहित अन्य स्थानों पर पानी के लिये लोग मशक्कत करते दिखायी दे रहे हैं।

लोगों ने पानी का संग्रहण करने के लिये या तो पानी के लिये प्लास्टिक की टंकियां खरीद ली हैं या फिर सीमेंट की टंकियां मकानों के अंदर बनवाकर उनके द्वारा पानी स्टॉक कर लिया जाता है। गर्मी जिस तरह से अपना असर दिखा रही है, उसे देखते हुए पानी के टैंकर्स के दाम और भी बढ़ने की संभावनाएं जतायी जा रही हैं।