जिले का किसान दिख रहा असमंजस में

 

समर्थन मूल्य पर हो रही गेहूँ खरीद बन रही परेशानी का सबब

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। जिले में किसानों के बीच असमंजस की स्थिति दिख रही है। किसानों को बोवनी करना है पर उनकी फसलों को कब खरीदा जायेगा और कब भुगतान प्राप्त होगा इस पर से कुहासा छंट नहीं सका है।

वर्तमान में जिले में समर्थन मूल्य पर हो रही गेहूँ खरीदी किसानों के परेशानी और चिंता का कारण बन रही है। केन्द्रों के इंतजाम ऐसे हैं कि किसान अपना अनाज लाकर सुरक्षा को लेकर चिंता में हैं तो वहीं सुविधा इतनी भी नहीं है कि बारिश में किसान खुद को ही भीगने से बचा सके। परिवहन की धीमी रफ्तार भी अनाज की बर्बादी की वजह बनने का डर सता रहा है, तो इधर भुगतान में विलंब भी किसानों को शादी – ब्याह के सीजन में परेशान कर रहा है।

जिले में बनाये गये ज्यादातर गेहूँ खरीद केंद्रों से किसानों की शिकायतें लगातार सामने आ रही हैं। किसानों की शिकायत है कि समर्थन मूल्य पर गेहूँ खरीदी की रफ्तार धीमी है, जिससे उन्हें खुले आसमान और खुले मैदान में गेहूँ बिकने के इंतजार में रातें गुजारनी पड़ रही हैं, तो वहीं खरीदे गये उनके गेहूँ का परिवहन समय पर नहीं किये जाने से उनकी मेहनत पर पानी फिरने की आशंका है।

मौसम की अनिश्चितता के चलते भी किसान परेशान नजर आ रहे हैं। किसानों को डर है कि अगर कहीं बारिश हो गयी तो खरीदी केंद्र में रखा उनका अनाज इससे प्रभावित हो सकता है। यही हालात केवलारी, छपारा ब्लॉक के चमारी व अन्य कई खरीदी केन्द्रों पर बने हुए हैं।

वहीं दूसरी ओर जिले में जारी समर्थन मूल्य पर गेहूँ खरीदी केन्द्रों में गेहूँ बेचने वाले अधिकांश किसानों को समय पर भुगतान नहीं हो रहा है। आये दिन भुगतान को लेकर किसानों और समिति प्रबंधकों के बीच गहमागहमी की स्थिति बन रही है।

जिले के खरीदी केन्द्रों में गेहूँ खरीदी जारी है। बड़ी तादाद में किसान केंद्रों में जाकर गेहूँ बेच रहे हैं लेकिन भुगतान प्राप्त होने में देरी हो रही है। जिला स्तर से अधिकारी किसानों को समय पर भुगतान करने के लिये मुख्यालय भोपाल और संबंधित बैंक से पत्राचार कर समय पर भुगतान का प्रयास कर रहे हैं। बड़ी संख्या में किसान भुगतान के लिये सहकारी समितियों के चक्कर काट रहे हैं। समर्थन मूल्य पर उपज बेचने के बाद भी समय पर भुगतान नहीं होने के कारण परेशान अधिकांश किसान अब सीधे व्यापारियों को उपज बेच रहे हैं।

वैसे भी इस समय शादी ब्याह का दौर जारी है जिसके कारण किसानों को नगदी की खासी जरुरत है। समय पर भुगतान न हो पाने के कारण परेशान किसान व्यापारियों की शरण में जाने को बाध्य हैं। वहीं कई स्थानों पर बारिश की संभावनाओं से अनाज खराब होने की भी आशंका है। किसानों ने इस ओर प्रशासन से ध्यान देकर व्यवस्था में सुधार लाने की अपेक्षा जाहिर की है।

छपारा ब्लॉक के गेहूँ उपार्जन केन्द्र चमारी खुर्द में गेहूँ बेचने आ रहे किसानों को जरूरी सुविधाएं भी नहीं मिल रही हैं। किसानों ने बताया कि गर्मी के इन दिनों में शीतल पेयजल, छाया और रात में गेहूँ की सुरक्षा के न तो पर्याप्त इंतजाम मिल रहे हैं और न ही बिजली की उचित व्यवस्था है। ऐसे में असुरक्षा के बीच उपज रखे किसानों को रात जागकर गेहूँ की सुरक्षा करनी पड़ रही है।

2 thoughts on “जिले का किसान दिख रहा असमंजस में

  1. Pingback: Harold Jahn Canada

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *