मंथर गति से चल रहा गेहूँ का परिवहन!

 

 

परिवहनकर्त्ता ठेकेदार से परेशान हैं समितियां

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। जिले भर में चल रहे गेहूँ उपार्जन कार्य में परिवहन कर्त्ता ठेकेदार की धीमी चाल से सरकारी स्तर पर खरीदा गया गेहूँ सुरक्षित स्थानों पर नहीं पहुँच पाने के कारण देश के अन्नदाता किसान की पेशानी पर पसीने की बूंदें छलकती दिख रही हैं।

उपार्जन कार्य का निरीक्षण भले ही संभागायुक्त राजेश बहुगुणा और जिलाधिकारी प्रवीण सिंह के द्वारा किया जा चुका हो पर खरीद केंद्रों पर अव्यवस्थाओं का अंबार लगा हुआ है। खरीद केंद्र में बारदानों की समस्या प्रमुख रूप से उभरकर सामने आ रही है। इसके अलावा उपार्जित गेहूँ का परिवहन न हो पाना एक समस्या के रूप में सामने आ रहा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार गेहूँ के परिवहन के लिये पाबंद किये गये ठेकेदार के द्वारा परिवहन के काम में जान बूझकर विलंब कारित किया जा रहा है। इसके पीछे कारण यही बताया जा रहा है कि ठेकेदार अभी भी समितियों से परिवहन के लिये अलग से चढ़ौत्तरी की चाह रखी जा रही है।

नागरिक आपूर्ति निगम के सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि बारदानों की कितनी तादाद होगी इसके बारे में समितियों के द्वारा बताया जाता है। इन बारदानों की आपूर्ति का काम परिवहन कर्त्ता ठेकेदार के जिम्मे है। फसल के उपार्जन के उपरांत पोर्टल पर फसल की मात्रा दर्ज होते ही इस बात का अंदाजा लगाया जाता है कि कितने बारदानों की आवश्यकता होगी।

सूत्रों ने बताया कि सब कुछ कंप्यूटराईज्ड होने के बाद अब जैसे ही पोर्टल पर एंट्री होती है उसके कुछ देर बाद ही परिवहन के लिये तैयार (रेडी टू ट्रांसपोर्ट) का संदेश आने लगता है। इसके बाद बिना किसी विलंब के ठेकेदार को इसका परिवहन किया जाना चाहिये। अगर परिवहन कर्त्ता ठेकेदार इसमें लापरवाही करता है तो इस पर कार्यवाही का अधिकार जिला प्रशासन को होता है।