संस्था के गठन के पीछे सुश्री वर्मा की सोच : सदभाव

 

संस्था की प्रेरणा स्त्रोत को दी भावभीनी श्रद्धांजलि

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। जिले की अग्रणी साहित्यिक एवं सामाजिक संस्था सद्भाव ने शोक सभा का आयोजन कर काँग्रेस की वरिष्ठ नेत्री एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुश्री विमला वर्मा को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

संस्था के उपाध्यक्ष संजय सिंह की अध्यक्षता में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में उपस्थित पदाधिकारियों एवं सदस्यों ने दो मिनिट का मौन रखकर प्रार्थना की, कि ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों में सम्मानित स्थान दें।

सदभाव के मीडिया प्रभारी अवधेश तिवारी ने बताया कि शोकसभा में वक्ताओं ने सुश्री वर्मा के दुःखद निधन को जिले की अपूर्णीय क्षति निरूपित करते हुए उनके द्वारा अधो संरचना विकास की दी गयी सौगातों को अतुलनीय बताया। वक्ताओं ने संस्था के गठन काल को याद करते हुए बताया कि संस्था के गठन के उद्देश्य के पीछे बुआजी की जिले में गंगा जमनी तहजीब हमेशा बरकरार रहे की सोच थी।

यही कारण था कि जब सदभाव द्वारा अखिल भारतीय कवि सम्मेलन एवं मुशायरा का कार्यक्रम आयोजित किया जाता था तो बुआजी की गरिमामय उपस्थिति जरूर रहती थी। शोकसभा में संस्था के अध्यक्ष आशुतोष वर्मा सहित अन्य पदाधिकारी विजय छांगवानी, प्रमोद शर्मा प्रखर, मनोज मर्दन त्रिवेदी, राम गोपाल सोनी बब्बा, रमेन्द्र श्रीवास्तव, अनिल सिंह गौर, दीवान आजम अली, सुनील अग्रवाल, सुनील बघेल, सोहेल जकी अनवर खान, अयोध्या विश्वकर्मा, द्वारका श्रीवास्तव उपस्थित थे।