इंदौर से भाजपा के शंकर लालवानी 5 लाख 40 हजार वोटों से जीते

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

इंदौर (साई)। इंदौर लोकसभा सीट से भाजपा के शंकर लालवानी ने अब तक की सबसे बड़ी जीत दर्ज की है, उन्होंने कांग्रेस के पंकज संघवी को 5,46556 वोटों से हराया है। इस बढ़त के साथ भाजपा कार्यकर्ताओं में जश्न का माहौल है, इंदौर के राजवाड़ा चौक पर जश्न शुरू हो गया है

सुमित्रा महाजन का रिकॉर्ड तोड़ा

शंकर लालवानी ने इंदौर से सुमित्रा महाजन ताई की सर्वाधिक लीड 4.66 लाख से भी आगे निकल गए हैं। मतगणना शुरू होने के बाद जैसे जैसे रुझान आना शुरू हुए लोग अपने घरों में टीवी स्क्रीन पर ही नजरे जमाए हुए थे। शहर में राजवाड़ा, बीजेपी कार्यालय के सामने, भंवर कुआं, राजेंद्र नगर आदि क्षेत्र में चौराहे पर लगी स्क्रीन पर अपडेट लेते रहे।

कैलाश विजयवर्गीय के घर जश्न

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के घर पर उनके बेटे आकाश विजयवर्गीय ने जीत का जश्न मनाते हुए कार्यकर्ताओं को मिठाई खिलाई। एक स्क्रीन पर नंदा नगर के रहवासियों व आने वाले कार्यकर्ताओं को चुनावी अपडेट भी दिखाया जा रहा है। दोपहर तक सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ता उनके घर के सामने मौजूद रहे।

लोकसभा चुनाव के सांतवें चरण में 19 मई को हुए मतदान में इंदौर लोकसभा सीट पर 69.34 प्रतिशत वोटिंग हुई। यहां मुख्य मुकाबला भाजपा के शंकर लालवानी और कांग्रेस के पंकज संघवी के बीच है। भाजपा ने पहली बार 1989 में इंदौर सीट जीती थी, इसके बाद से जीत का यह सिलसिला लगातार जारी है। इस बार इंदौर से लगातार आठ बार सांसद रही सुमित्रा महाजन का टिकट काटकर भाजपा ने शंकर लालवानी को प्रत्याशी बनाया गया था। इंदौर लोकसभा क्षेत्र की आठ विधानसभा सीटों में से चार पर भाजपा और चार पर कांग्रेस का कब्जा है। 2014 में भी इंदौर लोकसभा सीट से सुमित्रा महाजन ने जीत दर्ज की थी, इसके बाद वे लोकसभा स्पीकर बनीं थी।

इंदौर सीट का इतिहास

आजादी के बाद 1951 से अभी तक 16 आम चुनाव और एक उपचुनाव में इंदौर के मतदाताओं ने सांसद चयन के चुनाव में मत दिया। इस तरह 17 लोकसभा के चुनावों (16 चुनाव 1 उपचुनाव) के मतदान के आंकड़े देखें तो इंदौर के मतदाताओं का मिलाजुला रुख देखने में आता है। आजादी के बाद हुए 1951 के प्रथम आम चुनाव में नगर के 46.12 प्रतिशत मतदाताओं ने ही मतदान किया था। जाहिर है आधे से भी कम मतदाताओं के अपने मताधिकार उपयोग किया। पिछले चुनावों में मतदान प्रतिशत का सर्वाधिक मतदान का रिकॉर्ड 1967 का रहा है जब 64.77 प्रतिशत मतदाताओं ने मतदान किया था। इसके बाद 1977 के आम चुनाव में भी 64.75 प्रतिशत मतदाताओं ने मतदान किया था। सबसे कम मतदान का रिकॉर्ड 1957 का है जब 45.88 प्रतिशत मतदाताओं ने ही मतदान किया था।

यूं देखा जाए तो 1971 के उपचुनाव में इंदौर सीट पर मात्र 26.37 प्रतिशत मतदाताओं ने ही मतदान किया था जो अभी तक का सबसे न्यूनतम मतदान का रिकॉर्ड है। एक संयोग है कि 1962 में इंदौर संसदीय क्षेत्र का 59.08 का मतदान राज्य में हुए किसी सीट का सर्वाधिक मतदान था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *