बैनगंगा तट पर पड़े मृत जानवर से उठ रही दुर्गंध!

 

 

(फैयाज खान)

छपारा (साई)। केंद्र सरकार के समग्र स्वच्छता अभियान को ठेंगा दिखाते हुए ग्राम पंचायत छपारा की कार्यप्रणाली से संपूर्ण छपारा शहर कचरे से बजबजा रहा है। पुण्य सलिला बैनगंगा के तट पर मरे हुए जानवरों को फेंके जाने से उनसे उठने वाली असहनीय दुर्गंध लोगों का जीना दूभर कर रही है।

ज्ञातव्य है कि साफ सफाई को लेकर ग्राम पंचायत फिसड्डी साबित हो चुकी है। ग्राम पंचायत के पास कचरा फेंकने के लिये डंपिंग यार्ड नहीं है, जिससे शहर भर को ग्राम पंचायत के द्वारा डंपिंग यार्ड बना दिया गया है। शहर में स्थान – स्थान पर कूड़े के ढ़ेर आसानी से देखे जा सकते हैं।

इसके अलावा पुण्य सलिला बैनगंगा इन दिनों सूखने के कगार पर पहुँच चुकी है। बैंनगंगा के सूखे हुए तटों के पास ग्राम पंचायत के द्वारा मरे हुए जानवरों के शवों को असुरक्षित तरीके से फेंक दिया जा रहा है। इसके चलते यहाँ आवारा कुत्तों का जमघट लगा देखा जा सकता है।

स्थानीय निवासियों की मानें तो एक मृत मवेशी लगभग पाँच दिनों से तट के सूख चुके हिस्से में पड़ा हुआ है। गर्मी में मवेशी का शव सड़ भी चुका है और इससे असहनीय दुर्गंध उठ रही है। लोगों ने बताया कि आये दिन बैनगंगा के तट पर ग्राम पंचायत के द्वारा जानवरों की मृत देह फेंकी जा रही है। इतना ही नहीं शहर में मटन मुर्गी के अवशेष भी यहाँ फेंके जा रहे हैं जिससे लोगों का जीना मुहाल हो गया है।

इस संबंध में आज ही मुझे जानकारी मिली है. मैं जल्द से जल्द इस समस्या को दूर करने का प्रयास करूंगा.

बालक राम उईके, सचिव,

ग्राम पंचायत, छपारा.