करारी हार के बाद कांग्रेस की अगली चुनौती . . .

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। इस साल 11 जनवरी को बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा था कि जिस दिन पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व चाहेगा, बीजेपी मध्य प्रदेश की सत्ता में वापस लौट आएगी। लोकसभा चुनाव में मोदी की सुनामी के बाद राज्य में कमलनाथ की अगुआई वाली कांग्रेस सरकार पर खतरा बढ़ सकता है। राज्य की 29 लोकसभा सीटों में से बीजेपी ने 28 सीटों पर कब्जा जमाया है। वहीं, कांग्रेस सिर्फ 1 सीट पर सिमट गई।

लोकसभा चुनाव में मोदी की अगुआई में बीजेपी की ऐतिहासिक जीत के बाद एमपी की कांग्रेस सरकार बेचैन है। सत्ताधारी कांग्रेस को लगता है कि कहीं दिल्ली में बीजेपी हेडक्वॉर्टर से ऐसा इशारा मिला तो सरकार संकट में घिर सकती है। गुरुवार को जब रुझानों में बीजेपी की लहर के संकेत मिलने शुरू हुए तो प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष राकेश सिंह ने सीएम कमलनाथ से नैतिक आधार पर इस्तीफे की मांग की। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने जनता का समर्थन खो दिया है।

बीजेपी ने ऐसे पर्याप्त संकेत दिए हैं कि आने वाले दिन कांग्रेस नेतृत्व वाली सरकार के लिए आसान नहीं रहने वाले हैं। हालांकि अब तक बीजेपी ने बहुमत परीक्षण की कोई बात नहीं की है लेकिन पार्टी ने राज्य का बजट पास करने से पहले कमलनाथ सरकार को बहुमत साबित करने की चुनौती दी है। विजयवर्गीय ने कुछ समय पहले सवाल किया था, ‘यह किस तरह की सरकार है? यह सरकार हमारी दया पर चल रही है क्योंकि जिस दिन बॉस इशारा करेंगे…।उन्होंने यह कहते हुए बात पूरी नहीं की थी।

माना जा रहा है कि अगर राज्य में कांग्रेस की सरकार बहुमत साबित करने में विफल रहती है तो विजयवर्गीय सीएम की रेस में सबसे आगे होंगे। मंगलवार को उन्होंने कहा था कि उन्हें संदेह है कि लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद यह सरकार 22 दिन भी चल पाएगी। गुरुवार को टीओआई से बातचीत में उन्होंने एमपी के बारे में अपने प्लान पर कुछ भी बोलने से कन्नी काट ली। उन्होंने कहा, ‘पार्टी में कई लोग हैं। राकेश सिंहजी भी और दूसरे नेता राज्य में पार्टी को संभालने के लिए मौजूद हैं। मुझे पार्टी नेतृत्व ने दिल्ली में रखा है और जब तक पार्टी आलाकमान की इच्छा होगी मैं वहां रहूंगा।

इस बीच कांग्रेस सरकार में मंत्री जीतू पटवारी ने सरकार को किसी तरह का खतरा होने से इनकार किया है। उन्होंने कहा, ‘राज्य सरकार पर कोई संकट नहीं है। बीजेपी जो करना चाहती है करे। लेकिन यह कांग्रेस सरकार पांच साल के लिए है। यह लोगों के लिए काम करेगी। ऐसी कोई संभावना नहीं है कि कांग्रेस के साथ जो विधायक हैं वे बीजेपी की तरफ जाएंगे।मंगलवार को सीएम कमलनाथ ने आरोप लगाया था कि कम से कम 10 कांग्रेस विधायकों को बीजेपी की तरफ से पैसे और पद का लालच दिया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *