अपनायी जाये समेकित खेती प्रणाली : बहुगुणा

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। जबलपुर संभागायुक्त राजेश बहुगुणा ने सोमवार 27 मई को सिवनी पहुँचकर आत्मा परियोजना अंतर्गत कलेक्ट्रेट सभा कक्ष में आयोजित जिला स्तरीय कृषक कार्यशाला में वे शामिल हुए।

कृषि लागत को कम करते हुए कृषि उत्पादकता बढ़ाते हुए कृषकों की आय को बढ़ाने की कार्ययोजना को लेकर आयोजित इस कार्यशाला में संयुक्त संभागयुक्त अरविन्द यादव, कलेक्टर प्रवीण सिंह, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्रीमति मंजूषा राय, उप संचालक कृषि विभाग एस.के. धुर्वे सहित जिले के सभी विकास खण्ड स्तरीय कृषि अधिकारियों एवं उत्कृष्ट कृषक उपस्थित हुए।

कार्यशाला में वर्तमान परिवेश अनुसार समेकित कृषि प्रणाली पर जोर दिया गया। समेकित कृषि मॉडल जिस पर कम भूमि पर कृषि के साथ पशु पालन, वर्मी कम्पोस्ट, मछली पालन को शामिल कर कृषि आय में वृद्धि का मॉडल प्रस्तुत किया गया। साथ ही कृषकों को एक ही फसल में निर्भर न होते हुए अलग – अलग फसल के साथ सब्जी, फलदार वृक्षों को भी कृषि भूमि में शामिल करने से होने वाले लाभों को बताया गया।

संभागायुक्त श्री बहुगुणा द्वारा समेकित कृषि मॉडल को लेकर सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि यह मॉडल 3-4 एकड़ के कृषि भूमि वाले छोटे कृषकों को लेकर बनाया जाये। उन्होंने कहा कि कृषि विभाग, उद्यानिकी विभाग, पशु पालन विभाग तथा मत्स्य विभाग समान रूप से भागीदारी कर कृषकों में समेकित खेती को लेकर जागरूकता लायें।

उन्होंने उपस्थित अधिकारियों से कहा कि ऐसे कृषकों को उनकी भूमि पर पशु पालन, मत्स्य पालन, बतख पालन, मुर्गी पालन के साथ वर्मी कम्पोस्ट यूनिट के साथ पारंपरिक फसलों के साथ सब्जियां, फलदार वृक्ष जैसे पपीता, अमरूद, आम आदि लगाने हेतु प्रेरित किया जाये।

इसके साथ ही आधुनिक कृषि उपकरणों एवं तकनीकों की जानकारी देकर योजना अंतर्गत पात्रता अनुसार कृषक लाभ दिया जाये। निर्देशित किया गया कि पॉलीहाउस के साथ उन्नत तकनीक तथा बीज, खाद आदि के बारे में कृषकों को जानकारी दी जाये तथा कृषकों को कृषि भूमि में सम्पूर्ण वर्ष चक्रानुसार फसल लेने हेतु प्रेरित किया जाये जिसके लिये कृषकों की भूमि का परिक्षण कर वांछित मौसमी फसलों की जानकारी उपलब्ध करायी। इससे छोटे कृषकों के जीवनस्तर में सुधार आयेगा तथा उनकी आय में वृद्धि हो सकेगी।