पुलिस अफसर भी महफूज नहीं चोरों से!

 

 

महिला एसडीओपी की सर्विस रिवॉल्वर हुई चोरी!

(अखिलेश दुबे)

सिवनी (साई)। घंसौर पुलिस का चोरों पर किसी तरह का बस नहीं रह गया है। आलम यह है कि चोरों के द्वारा घंसौर अनुभाग की अनुविभागीय अधिकारी पुलिस सुश्री श्रृद्धा सोनकर की सर्विस रिवॉल्वर पार कर ली गयी है। घंसौर के नगर निरीक्षक इस तरह की घटना से इंकार कर रहे हैं पर जिला पुलिस अधीक्षक के द्वारा इस मामले में जाँच की बात कही गयी है।

घंसौर पुलिस सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि 17 एवं 18 मई की दरमियानी रात में घंसौर थाने से महज आधा किलोमीटर दूर स्थित मॉडल कॉलोनी में चोरों ने तीन घरों में वारदात को अंजाम दिया था। इसमें नल ऑपरेटर तीरथ मरावी के घर से चोरों ने दो हजार रूपये एवं पीजीटी निधि धूपिया के निवास से लगभग एक लाख रूपये के सामान पर हाथ साफ कर दिया था।

सूत्रों का कहना है कि इसी दौरान इस कॉलोनी में निवास करने वालीं अनुविभागीय अधिकारी पुलिस श्रृद्धा सोनकर के निवास का ताला भी चोरों के द्वारा तोड़ा गया था। इसमें श्रृद्धा सोनकर की सर्विस रिवॉल्वर एवं कुछ जिन्दा कारतूस भी चोरों के द्वारा उठाकर ले जाये गये थे।

सूत्रों ने बताया कि इस मामले में तहसील की प्रभारी अधिकारी के द्वारा पुलिस में चोरी की रिपोर्ट क्यों दर्ज नहीं करायी गयी, यह शोध का ही विषय माना जा रहा है। 18 मई की घटना के लगभग दस दिन बाद भी इस मामले में पुलिस के द्वारा घटना को छुपाने का प्रयास ही किया जा रहा है।

ज्ञातव्य है कि घंसौर में लगभग डेढ़ माह में विभिन्न स्थानों पर डेढ़ दर्जन से ज्यादा चोरी की वारदातें हो चुकी हैं। पुलिस इन मामलों में अभी तक खाली हाथ ही है। इस मामले में घंसौर थाना प्रभारी से जब जानकारी चाही गयी तो उन्होंने साफ तौर पर इंकार किया कि किसी अधिकारी के घर बीते एक माह में किसी तरह की चोरी की कोई घटना हुई है।

घंसौर में चल रहीं चर्चाओं के अनुसार इस मामले में पुलिस के आला अधिकारियों के द्वारा भी एसडीओपी को जमकर फटकार लगायी गयी थी। घटना के बाद एफएसएल की टीम और डाग स्क्वाड भी मौके पर पहुँचा था। कुल मिलाकर चोरियों की घटनाओं में आरोपियों को पकड़ने में नाकाम घंसौर पुलिस के द्वारा इस तरह की कवायद की जा रही है कि यह मामला उजागर न हो पाये। चर्चाओं के अनुसार जब पुलिस के अधिकारियों के निवास ही चोरों से महफूज नहीं रह गये हैं तो बाकी की कौन कहे!

घंसौर एसडीओपी श्रृद्धा सोनकर ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि उनके पास इस तरह की वारदात के तीन चार फोन आ चुके हैं। इस तरह की कोई घटना घटी नहीं है। उन्होंने कहा कि किसी के द्वारा इस तरह की अफवाह उड़ायी जा रही है।

वहीं, समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया से चर्चा के दौरान जिला पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार ने कहा कि लगभग दस बारह दिनों पहले एसडीओपी घंसौर के निवास पर चोरी की घटना घटी थी। इस मामले में जाँच की जा रही है।