कहाँ जा रहा पालिका का पानी!

 

 

रोज 24 एमएलडी पानी फिर भी प्यासे लोग!

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। सिवनी शहर के हिस्से में रोज 24 एमएलडी पानी आ रहा है पर यह पानी जा कहाँ रहा है यह शोध का विषय है। यह बात नागरिक मोर्चा के द्वारा जारी विज्ञप्ति में कही गयी है।

नागरिक मोर्चा की विज्ञप्ति में कहा गया है कि इसका एक सीधा कारण यह है कि नयी लाईन से कनेक्शन नगर पालिका द्वारा अब तक नहीं दिये गये, जिन्हें पूर्व के कार्यादेश के अनुसार वर्ष 2016 से दिया जाना प्रारंभ हो जाना था पर ऐसा हुआ नहीं। इसके पश्चात नगर पालिका की कार्यशैली में खुद इतनी अनियमितताएं हैं कि यदि कोई समस्या न हो तो भी ये बना दी जाती है।

विज्ञप्ति के अनुसार इसका उदाहरण भैरोगंज की कॉलेज रोड में बीच सड़क पर खुदा हुआ गड्ढा प्रदर्शित करता है जो पानी की टूटी हुई लाईन को जोड़ने के लिये किया गया था। स्थानीय लोगो की मानंे तो ये लगभग एक माह से खुदा हुआ है और इसके लिये नगर पलिका से लेकर कलेक्टर सिवनी तक को फ़ोन लगाया जा चुका है।

विज्ञप्ति के अनुसार इसका परिणाम यह हुआ कि कलेक्टर सिवनी के द्वारा जेसीबी के द्वारा गड्ढा बड़ा कर जल्द निदान का आदेश दिया गया। 15 दिवस पूर्व जेसीबी ने गड्ढा खोदा और पालिका कर्मचारी अपने काम में लग गये। लगभग 15 दिनों में भी वे इस समस्या का निदान नही कर पा रहे कि पानी की लाईन कहाँ से टूटी है और उसे कैसे सुधारना है।

विज्ञप्ति के अनुसार यह गड्ढा हर दिन सुबह लाखंो लीटर पीने का पानी सड़क से होते हुए नालों में बहा देता है, और स्थानीय नागरिक बताते है की हर दिन पालिका के कर्मचारी आते हैं और इस प्रयोगशाला में अपने प्रयोग कर चले जाते है। उन्हें भी नहीं समझ आ रहा कि ये हो क्या रहा है।

विज्ञप्ति के अनुसार वहीं रोड के दूसरी ओर पृथ्वीराज चौहान वार्ड के लोग नलों में टकटकी लगाये पानी का इंतज़ार करते रहते है पर उन्हें पता ही नहीं चल पाता है कि उनके पीने का पानी नगर पालिका की लापरवाही के कारण नालों में बह रहा है। यही हाल टोला क्षेत्र में पानी की टूटी लाईन के रूप में भी दिखायी देता है जहाँ पानी बह रहा है और लोग दूर दराज के कुंओं और नल कूपों से पानी ला रहे है। नगर पालिका की ये लापरवाही नयी नहीं है पर प्यासे शहर में पानी की बर्बादी नागरिकों के जले पर नमक मलने जैसा है।

2 thoughts on “कहाँ जा रहा पालिका का पानी!

  1. Pingback: 사설토토

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *