घर-घर में हो रहा गौ, गीता, गंगा महामंच का गीतापाठ अनुष्ठान

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। एकादशी के शुभ अवसर पर गौ, गीता, गंगा महामंच द्वारा गीता पाठ का संपादन गीतापाठ अनुष्ठान के यजमान गोपाल तिवारी के निवास पर संपादित किया गया।

आनुष्ठानिक क्रम का संपादन सविधि लक्ष्मी नारायण मंदिर के पुजारी पं.हेमंत त्रिवेदी द्वारा संपादित करवाया गया। आनुष्ठानिक गीता पाठ के क्रम में भगवान श्रीविष्णु का विभिन्न उपचारों से पूजन कर विष्णु सहस्त्रार्चन के पश्चात सामूहिक गीता पाठ का श्रवण – पाठन किया गया।

गौ, गीता, गंगा महामंच द्वारा संपादित किये जा रहे गीता पाठ अनुष्ठान के संबंध मंे पं.सुमित चौबे ने जानकारी देते हुए बताया कि जो भी सनातन धर्मी कृष्ण भक्त गीता प्रेमी गीता पाठ अनुष्ठान अपने घर में संपादित करवाना चाहता हो वह लक्ष्मी नारायण मंदिर के पुजारी पं.राजेश मिश्र, पं.हेमंत त्रिवेदी, पं.ओमकार तिवारी, पं.सूरज दुबे, पं.नितेष मिश्रा, पं.किशोर पाण्डेय, पंचमुखी हनुमान मंदिर के पुजारी पं.विजय मिश्र, सिंहवाहिनी मंदिर के पुजारी पं.विजय उपाध्याय, महामाया मंदिर के पुजारी पं.अर्जुन, भैरो मंदिर के पुजारी पं.शरद शर्मा, माता महाकाली मंदिर के पुजारी पं.अभिषेक, आदि से संपर्क कर घरों में अथवा मंदिर मंे भी गीता पाठ अनुष्ठान संपादित करवा सकते हैं।

पं.सुमित चौबे ने बताया कि यह अनुष्ठान समस्त ऐश्वर्य सुख – समृद्धि प्रदायक के साथ चराचर जगत के लिये कल्याणकारी मुक्ति प्रदायक है। पं.सुमित चौबे ने कहा कि प्रत्येक सनातनी कृष्ण प्रेमी भक्त को अपने जीवन में एक बार गीता पाठ अनुष्ठान अवश्य करना चाहिये। यह गीता पाठ अनुष्ठान सर्वविध सुखकारी के साथ समस्त पितरों का तारक – उद्धारक तो है ही साथ ही समस्त कुल का तरण – तारण हार है।