लगातार प्रदूषित हो रही पुण्य सलिला!

———————–

 

 

स्वच्छता अभियान की धज्जियां उड़ रहीं छपारा में

(ब्यूरो कार्यालय)

छपारा (साई)। पुण्य सलिला के तीरे बसे छपारा शहर की गंदगी से बैनगंगा नदी प्रदूषित हो रही है और इस बारे में सोचने की फुर्सत किसी को भी नहीं दिख रही है। बैनगंगा नदी के तट के पास ही देशी शराब दुकान और मटन, मछली मार्केट की गंदगी लगातार ही बैनगंगा नदी में प्रवाहित हो रही है।

पंचायत और प्रशासन की घोर लापरवाही के कारण जीवन दायिनी पवित्र बैनगंगा लगातार प्रदूषित होती जा रही है। पूरे नगर का कचरा इसके तट पर फेंका जा रहा है। इतना ही नहीं इसी के तट के समीप ही देशी शराब की दुकान तथा मटन और मछली बाजार स्थित होने की वजह से यह और भी अधिक प्रदूषित होती जा रही है।

इतना ही नहीं पवित्र बैनगंगा में स्नान व पूजन करने आने वाले श्रद्धालुओं को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। शराब की खाली बोतलें, डिस्पोजल, पानी के पाउच तथा मटन व मछली बाजार में बिकने वाली चीजों के अवशेष की संख्या यहाँ लगातार बढ़ती जा रही है।

ज्ञातव्य है कि बैनगंगा तट से लगे जनपद पंचायत कार्यालय तक मछली मटन मार्केट और देशी शराब दुकान होने के कारण यहाँ मयजदों का हुजूम लगा रहता है। बैनगंगा नदी में स्नान और पूजन अर्चन करने जाने वाली महिलाओं को मछली मटन और शराब दुकान के सामने से बदबू और गंदगी के कारण परेशानी होती है।

इसी सड़क से छपारा के आस पास क्षेत्र से भारी संख्या में स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थी आते जाते हैं। इन विद्यार्थियों को भी इन्हीं परिस्थितियों से होकर गुजरना पड़ता है। कई बार तो शराबियों की गंदी हरकतों का सामना भी यहाँ से गुजर रहीं छात्राओं को करना पड़ता है।

क्षेत्रीय वांिशंदे आश्चर्य तो इस बात पर कर रहे हैं कि हाल ही में विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया और इस दिन भी पंचायत और प्रशासन ने बैनगंगा के इस पवित्र घाट को व्यवस्थित करने की दिशा में कोई पहल नहीं की गयी। वन विभाग द्वारा इस दिन पौधारोपण किया गया था, लेकिन बैनगंगा के तट की उपेक्षा उसके द्वारा भी कर दी गयी।

उल्लेखनीय होगा कि पिछले दिनों तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के द्वारा भी बैनगंगा की सफाई के लिये नमामि देवी नर्मदा सेवा यात्रा की तर्ज पर प्रयास करने की बात कही गयी थी लेकिन अब तक इस संबंध में किसी तरह का प्रस्ताव सामने नहीं आया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *