संकरी गलियां बन रहीं यातायात में बाधक

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। शहर के अंदर रात के स्याह अंधेरे में चौड़ी दिखने वाली सड़कें दिन के उजाले में संकरी ही नज़र आती हैं। नगर पालिका के द्वारा जहाँ भी सड़कों का निर्माण कराया जाता है वहाँ अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही दिखावे के लिये की जाती है। बाकी समय में नगर पालिका भी अपनी जवाबदेहियों से मुँह फेरती ही नज़र आती है।

नगर के कई चौक चौराहों और मार्ग के सथ ही साथ बाज़ार से जुड़े क्षेत्रों में लोगों का सुविधा पूर्वक आवागमन संभव नहीं रह गया है। भले ही शहर आधुनिक भवनों के कारण अपने क्षेत्रफल में लगातार विस्तार कर रहा हो, लेकिन शहर के विस्तार के साथ जिस तरह की सुविधाएं बढ़नी चाहिये, वे जन प्रतिनिधियों की उदासीनता और संबंधित विभागों की अनदेखी के चलते लोगों को नहीं मिल पा रही हैं।

सुबह से लेकर देर रात तक बारापत्थर, गणेश चौक, गाँधी चौक, नेहरू रोड, बुधवारी बाज़ार, छिंदवाड़ा चौक, अशोक टॉकीज मार्ग, जीएन रोड, दुर्गा चौक, नगर पालिका तिराहा, बस स्टैण्ड आदि में लोगों की आवाजाही लगी रहती है, ये सभी स्थान आवासीय इलाके होने के साथ ही साथ व्यवसायिक केन्द्र भी हैं, जिसके चलते यहाँ लोग न केवल पैदल, बल्कि साईकिल, रिक्शॉ, ऑटो, अपने दोपहिया और चौपहिया वाहनों से आना – जाना करते हैं।

शहर की सड़कें चूँकि जैसे पहले थीं, वैसी आज नहीं रह गयीं हैं, लोगों के द्वारा अपने घर और दुकानों के कारण अतिक्रमण किया जाकर आने – जाने वालों के लिये न तो पार्किंग की व्यवस्था रहने दी गयी है और न ही ऐसा कुछ किया गया है, जिससे आवागमन सुचारू रूप से चलता रहे।

उल्लेखनीय होगा कि शहर के ही मध्य भाग में कई प्रमुख बैंक भी हैं, जिनमें प्रातः 11 बजे से लेकर शाम के पाँच बजे तक उपभोक्ताओं का आना – जाना लगा रहता है। इस वजह से बैंकों के सामने उपभोक्ताओं के खड़े रहने वाले बेतरतीब वाहन जाम की स्थिति उत्पन्न कर देते हैं और लोगों को पाँच से सात मिनिट तक और कई बार तो 10-10 मिनिट तक इस जाम में फंसे रहना पड़ता है। ऐसे में यदि कोई व्यक्ति गंभीर रूप से बीमार हो या किसी व्यक्ति को समय पर बस स्टैण्ड या कचहरी पहुँचना हो तो वह नहीं पहुँच पाता। कई बार शहर की इस अराजक यातायात व्यवस्था को सुधारने की दिशा में आवाज उठायी गयी, लेकिन कोई भी इसके प्रति गंभीर नहीं है। स्वयं लोग अपने मनमाने ढंग से वाहनों को खड़ा कर आवागमन को बाधित करने में सहभागी बनते दिखते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *