नये खड़े खंबे गिर रहे टूटकर!

 

(ब्यूरो कार्यालय)

बखारी (साई)। जिले में फीडर सेपरेशन के काम में लगाये जा रहे बिजली के खंबों की गुणवत्ता पर सवालिया निशान लगने आरंभ हो गये हैं।

किसानों व ग्रामीणों को पर्याप्त व फुल वोल्टेज बिजली सप्लाई देने के लिये फीडर सेपरेशन का काम जिले में चल रहा है। फीडर सेपरेशन के लिये ठेकेदारों द्वारा लगाये जा रहे पोलों की स्थिति यह है कि नयी लाईनों में बिजली दौड़ने से पहले ही खड़े किये गये पोल उखड़कर जमींदोज हो रहे हैं।

कई जगह पोल खेतों में जमीन तक टिक गये हैं। ग्रामीणों के मुताबिक ठेकेदार द्वारा कम गहरायी में पोल खड़े कर दिये गये हैं जो लाईनों का दबाव और तेज हवा में टिक नहीं पा रहे हैं। लाईनों का काम पूरा होने से पहले ही चार माह पहले खड़े किये गये 11 केव्ही लाईन के दर्जनों सीमेंट के पोल खेतों में धराशायी हो गये हैं।

14 किलो मीटर की नयी लाईन : प्राप्त जानकारी के मुताबिक विद्युत वितरण कंपनी की निर्माण शाखा द्वारा बखारी से सागर और सागर से चंदौरी फीडर सेपरेशन का कार्य करवाया जा रहा है। इसके लिये बखारी से चंदौरी तक 14 किलो मीटर की नयी लाईन बिछायी जा रही है। 11 केव्ही लाईन बिछाने का ठेका सिवनी के ठेकेदार मनीष सोनी को कंपनी ने लिया है। कंपनी द्वारा लाईन बिछाने के लिये खंबे व अन्य सामग्री ठेकेदार को उपलब्ध करवायी गयी है।

कई जगह गिरे बिजली के पोल : बखारी से सागर व चंदौरी के बीच कई स्थानों पर अप्रैल व मई महीने में लगाये गये बिजली के पोल उखड़कर गिर गये हैं। एक अनुमान के मुताबिक 20 से ज्यादा पोल क्षेत्र में गिरे हैं। बिजली कंपनी के अधिकारियों का कहना है कि हवा तूफान व अन्य कारणों से पोल खेतों में गिरे हैं। अभी इस लाईन में करंट दौड़ना आरंभ नहीं हुआ है। कुछ खेतों में पोल गड़ाने में व्यवधान आने के कारण ठेकेदार लाईन का काम पूरा नहीं करा सका है। गिरे हुए पोलों में सुधार कार्य करवाकर बिजली लाईन का रुका काम पूरा कराया जायेगा।