अवर्षा से किसान और उमस से लोग परेशान

 

 

(सादिक खान)

सिवनी (साई)। बारिश की बेरूखी के चलते किसान ही नहीं बल्कि अब आमजन भी परेशान नज़र आने लगा है। विलंब से आये मॉनसून के बाद कुछ दिन हुई झमाझम बारिश के बाद मानों इस पर ब्रेक ही लग गया है। अवर्षा के कारण उमस में तेजी से इजाफा हुआ है।

अवर्षा की स्थिति से किसानों में घोर निराशा देखी जा रही है। कई किसानों के द्वारा बोया गया बीज ही बिना अंकुरण के व्यर्थ हो गया है। ऐसे किसानों की स्थिति यह है कि यदि उन्हें फसल लेना है तो दोबारा उन्हें बोवनी करना पड़ेगी। यदि यही स्थिति आगे कुछ दिन और जारी रही तो हालात पूरी तरह सूखे के ही बनते नज़र आ रहे हैं।

शुक्रवार 19 जुलाई की रात में हुई बारिश के बाद शनिवार 20 जुलाई को अवश्य 20.4 मिलीमीटर दर्ज की गयी थी और ऐसा लगा था कि अब बारिश की बेरूखी समाप्त हो जायेगी लेकिन पिछले दो दिनों से बारिश न होने के कारण एक बार फिर किसानों में निराशा घर करती दिख रही है।

यहाँ यह उल्लेखनीय होगा कि शुक्रवार की रात हुई बारिश के लगभग 11 दिन पहले 07 जुलाई को आखिरी बार 05 मिलीमीटर बारिश सिवनी में दर्ज की गयी थी। इस तरह यदि शुक्रवार की रात हुई बारिश को छोड़ दिया जाये तो मॉनसून की आमद के उपरांत पिछला एक पखवाड़ा तकरीबन सूखा ही चला गया। इसके चलते उमस में तेजी से इजाफा हुआ।

उमस के कारण बीमारियों को भी पैर पसारने का अवसर मिल गया और चिकित्सालयों में पहुँचने वाले लोगों की कतारें आरंभ हो गयीं। इस दौरान ज्यादातर पेट से संबंधित बीमारियों के कारण लोग चिकित्सकों की शरण में जाने के लिये मजबूर हुए हैं। चिकित्सालयों के साथ ही साथ मेडिकल स्टोर्स पर भी भीड़ देखी जा रही है जहाँ ऐसे लोग भी दवा लेते मिल जाते हैं जो चिकित्सक से परीक्षण करवाये बिना, मेडिकल स्टोर के संचालक से लक्षणों के आधार पर दवा लेकर स्वस्थ्य होने का प्रयास करते हैं।

यहाँ यह भी उल्लेखनीय होगा कि जून के अंतिम सप्ताह में आरंभ हुए बारिश के क्रम ने किसानों के चेहरे पर खुशी लौटा दी थी जो जुलाई के पहले सप्ताह में भी जारी रही लेकिन उसके बाद वर्षा के बादलों ने सिवनी के आसमान से जैसे बिदाई ही ले ली। भू अभिलेख से राकेश विश्वकर्मा ने सिवनी में हुई बारिश के बारे में अधिकृत जानकारी देते हुए बताया कि बीते 29 जून को सिवनी में 20.4 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी थी।

उन्होंने बताया कि इसके बाद 30 जून को 18.2 मिलीमीटर, 01 जुलाई को 47.2 मिलीमीटर, 02 जुलाई को 33.4 मिलीमीटर, 03 जुलाई को 40.4 मिलीमीटर, 04 जुलाई को 4.2 मिलीमीटर, 05 जुलाई को 2.0 मिलीमीटर, 06 जुलाई को 25.4 मिलीमीटर और 07 जुलाई को 5.0 मिलीमीटर बारिश सिवनी में दर्ज की गयी थी। इसके बाद कभी कभार हल्की बूंदाबांदी अवश्य हुई लेकिन पर्याप्त बारिश की स्थिति भी इस दौरान नहीं बन सकी।

बारिश के इस मौसम में एक लंबे अंतराल के बाद शुक्रवार 19 जुलाई को दोपहर बाद हुई झमाझम बारिश ने लोगों के चेहरे पर रौनक इस उम्मीद से लौटा दी थी कि अब बारिश का दौर सिवनी में पुनः आरंभ हो जायेगा लेकिन ऐसा नहीं हो सका। शुक्रवार की रात हुई बारिश के बारे में शनिवार 20 जुलाई को मिली जानकारी में बताया गया कि इस दौरान 20.4 मिलीमीटर बारिश होना रिकॉर्ड किया गया है।

गौरतलब होगा कि इसके पूर्व ग्रीष्म काल में अधिकतम तापमान 05 जून को 44 डिग्री सेल्सियस को पार करते हुए 44.4 डिग्री सेल्सियस तक जा पहुँचा था। उसके बाद मॉनसून की आमद में हुई देरी ने लोगों को परेशान करके रख दिया था। बहरहाल, मौसम विभाग के सूत्रों ने 23-24 जुलाई के आसपास सिवनी में अवर्षा की इस स्थिति से निज़ात मिलने की उम्मीदें जतायी हैं।