दो साल में आरंभ हो जायेगा मेडिकल कॉलेज़!

 

 

राज्य सरकार ने एमसीआई को भेजा सीटें बढ़ाने प्रस्ताव

(अय्यूब कुरैशी)

सिवनी (साई)। अगर सब कुछ ठीक ठाक रहा तो 2021 के अंत तक सिवनी में आयुर्विज्ञान महाविद्यालय (मेडिकल कॉलेज़) आकार ले लेगा। डॉ.मनमोहन सिंह के नेत्तृत्व वाली केंद्र सरकार की योजना के अनुरूप सिवनी में मेडिकल कॉलेज़ आरंभ कराने का प्रयास पिछले साल शुरू हो चुका है।

प्रदेश के मेडिकल एजूकेशन संचालनालय (डीएमई) कार्यालय के उच्च पदस्थ सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि अगले दो सालों में प्रदेश में तीन नये मेडिकल कॉलेज़ आरंभ हो जायेंगे। इसके लिये डीएमई कार्यालय के द्वारा केंद्र सरकार से पत्राचार की पहल आरंभ कर दी गयी है।

सूत्रों ने बताया कि राज्य सरकार के द्वारा केंद्र सरकार को भेजे गये प्रस्ताव में सूबे के मेडिकल कॉलेज़ेस में एमबीबीएस की सीटें 1000 से ज्यादा बढ़ाने का प्रस्ताव किया है। इसमें निम्न आय वर्ग के विद्यार्थियों के लिये तीन सौ सीटें बढ़ाये जाने का प्रस्ताव भी शामिल किया गया है।

सूत्रों ने बताया कि वर्तमान में प्रदेश में संचालित 13 आयुर्विज्ञान महाविद्यालयों में एमबीबीएस की 1870 सीटें हैं। हर साल इन सीटों को बढ़ाने के लिये प्रयास किये जायेंगे। सूत्रों ने उम्मीद जतायी है कि 2020 में आरंभ होने वाले शैक्षणिक सत्र में इन 13 मेडिकल कॉलेज़ में ये सीटें बढ़कर 2276 एवं 2021 में आरंभ होने वाले शैक्षणिक सत्र में मेडिकल कॉलेज़ की तादाद बढ़कर 16 हो जायेगी और इन सीटों की संख्या 2951 तक हो सकती है।

सूत्रों ने बताया कि डॉ.मनमोहन सिंह के नेत्तृत्व वाली केंद्र सरकार के द्वारा देश भर में चिकित्सकों की कमी को दूर करने के लिये प्रत्येक जिला अस्पताल को मेडिकल कॉलेज़ से संबद्ध करने की योजना बनायी गयी थी। संप्रग सरकार के कार्यकाल के अंतिम समय में इस पर काम आरंभ किया जा चुका था।

सूत्रों ने बताया कि इसी योजना के तहत आने वाले दो सालों में सिवनी, सतना और छतरपुर में नये मेडिकल कॉलेज़ आरंभ कर दिये जायेंगे। इसके लिये पिछले साल शिलान्यास की औपचारिकताएं पूरी की जा चुकी हैं। सूत्रों ने उम्मीद जतायी है कि एमसीआई से इन कॉलेज़ेस को 2021 तक सारी अनुमतियां प्राप्त हो जायेंगी।

इधर, प्रदेश की चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ.विजय लक्ष्मी साधौ के करीबी सूत्रो ंने बताया कि चिकित्सा शिक्षा महकमा प्रदेश में चिकित्सकों की कमी को लेकर बहुत ज्यादा संजीदा है, इसलिये अब कमल नाथ सरकार के द्वारा दलगत भावना से ऊपर उठकर प्रदेश में नये मेडिकल कॉलेज़ खोलने के काम को प्राथमिकता दी जा रही है ताकि प्रदेश में चिकित्सकों की कमी को दूर किया जा सके।

सूत्रों ने बताया कि जब सिवनी में मेडिकल कॉलेज़ आरंभ होगा उसके बाद प्रियदर्शनी जिला चिकित्सालय को मेडिकल कॉलेज़ से संबद्ध अस्पताल बना दिया जायेगा। हाल ही में प्रदेश स्तर के दो वरिष्ठ चिकित्सकों के द्वारा जिला चिकित्सालय का मुआयना भी किया गया है।