प्रदेश में बढ़ेगी विधायक निधि, मुख्यमंत्री ने दिया आश्वासन

 

 

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। मध्य प्रदेश में तीन साल बाद विधायक निधि में सरकार इजाफा करेगी। यह घोषणा मुख्यमंत्री कमल नाथ ने नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव और अन्य विधायकों की मांग पर की। उन्होंने कहा कि हम जब संसद में निधि बढ़ाने की बात कहते थे तो कोई नहीं सुनता था, पर मैं उनमें नहीं रहना चाहता हूं।

उन्होंने कहा कि आपने हमें खाली तिजोरी सौंपी है, फिर भी जितना हो सकता है, उतना करेंगे। किसी को निराश नहीं होने देंगे। नेता प्रतिपक्ष भी संतुष्ट हो जाएंगे। अभी विधानसभा क्षेत्र विकास निधि के तौर पर प्रतिवर्ष एक करोड़ 85 लाख और 15 लाख स्वेच्छानुदान विधायकों को मिलता है।

प्रश्नकाल के दौरान यह मुद्दा भाजपा के रामेश्वर शर्मा ने उठाया। उन्होंने कहा कि विधायक निधि भी बढ़ाई जानी चाहिए। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा कि मैं विधायकों की पीड़ा समझता हूं। उन पर छोटे-छोटे काम कराने का काफी दबाव रहता है।

पिछली सरकार में जब विधायक निधि खत्म हो गई थी तो हमने दूसरे माध्यम से सभी के लिए 50-60 लाख रुपए के कामों की व्यवस्था की थी। वित्तमंत्री तरुण भनोत ने कहा कि बजट चर्चा के दौरान जब यह बात आई थी तो हम मुख्यमंत्री के संज्ञान में लाए थे। उन्होंने निर्देश दिए हैं और हम नेता प्रतिपक्ष के साथ बैठकर तय कर लेंगे।