दिनेश राय के निशाने पर सिवनी के अखबार!

 

 

मुख्यमंत्री से पूछा सिवनी के अखबारों के बारे में विस्तार से

(अखिलेश दुबे)

सिवनी (साई)। लगता है सिवनी के अखबार अब सिवनी के भाजपाई विधायक दिनेश राय के राडार पर आ गये हैं। दिनेश राय के द्वारा विधान सभा में मुख्यमंत्री कमल नाथ से सिवनी के समाचार पत्रों के बारे में विस्तार से जानकारी चाही गयी है।

विधान सभा की वेब साईट पर बुधवार के प्रश्नोत्तरों में दिनेश राय के द्वारा क्रमाँक 3106 पर पूछे गये प्रश्न के अनुसार उन्होंने मुख्यमंत्री से जानना चाहा है कि सिवनी जिले में कौन – कौन से समाचार पत्र प्रकाशित हो रहे हैं! उन्होंने इसकी सूची चाही है।

इस प्रश्न के प्रश्नांश में दिनेश राय ने यह भी जानना चाहा है कि सिवनी जिले से प्रकाशित होने वाले समाचार पत्रों में प्रदेश एवं सिवनी जिले के विभिन्न समाचार पत्रों में जिले के विभिन्न निगम, मण्डल, बोर्ड, विश्व विद्यायल के द्वारा कितने और कौन – कौन से विज्ञापन विगत पाँच सालों में प्रकाशित करवाये गये एवं उन्हें कितना भुगतान किया गया! इसकी जानकारी उनके द्वारा वर्ष वार एवं विभागवार चाही गयी है। उन्होंने प्रश्नांश में यह भी जानना चाहा है कि समाचार पत्रों को किस क्रमानुसार विज्ञापन दिये गये हैं! इसके लिये किस नियम का पालन किया गया है!

इसके प्रश्नांश में दिनेश राय के द्वारा यह भी जानना चाहा गया है कि विगत पाँच सालों में विज्ञापन और भुगतान के संबंध में ऑडिट आपत्तियां क्या हैं? क्या इन ऑडिट आपत्तियों का निराकरण किया गया है! उन्होंने विभागों के लिये विशेष मीडिया कैंपेन्स के बारे में भी जानकारी चाही है।

इस प्रश्न के प्रश्नांश में दिनेश राय ने यह भी जानना चाहा है कि समाचार पत्रों के पंजीयन की प्रक्रिया एवं मापदण्ड क्या हैं! इसके अलावा उन्होंने यह भी जानना चाहा है कि क्या सिवनी जिले से प्रकाशित समाचार पत्र इन मापदण्डों का पालन कर रहे हैं! यदि वे कर रहे हैं तो पिछले तीन सालों से प्रकाशित समाचार पत्रों की माह वार संख्या एवं मुद्रणालय के विद्युत देयक की जानकारी समाचार पत्र वार उनके द्वारा चाही गयी है।

दिनेश राय के द्वारा इसके साथ ही साथ शपथ पत्र एवं समाचार पत्रों के उपयोग में होने वाले कागजों (पेपर) के पिछले पाँच सालों के देयकों का ब्यौरा भी समाचार पत्र वार माँगा गया है।

वेबसाईट के अनुसार इसके जवाब में मुख्यमंत्री कमल नाथ के द्वारा दिनेश राय के प्रश्न की जानकारी पुस्तकालय में रखे परिशिष्ट के प्रपत्र अ के अनुसार कहा है। चूँकि इस परिशिष्ट की जानकारी विस्तार से नहीं मिल सकी इसलिये सुधी पाठकों के लिये जानकारी उपलब्ध होते ही प्रकाशित एवं प्रसारित की जायेगी।

इसके जवाब में मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि सिवनी में समाचार पत्रों का प्रकाशन नियमानुसार ही हो रहा है। उन्होंने कहा कि पिछले पाँच सालों से विज्ञापन प्रभाग का महालेखाकार ग्वालियर के दल के द्वारा ऑडिट किया जाकर उसमें जो आपत्तियां बुलायी गयी थीं उनके निराकरण के लिये पाल प्रतिवेदन महालेखाकार को भेजा जा चुका है।