मौसम की मार से परेशान मवेशी

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। बारिश के मौसम में पशु चिकित्सालय में भी बीमार श्वानों, बकरियां, मवेशियों को लेकर पशु मालिक बड़ी संख्या में पहुँच रहे हैं।

पशुओं में बारिश के दिनों में गलघोटू जैसी बीमारी, भैंस और गायों में होती है, इसके अलावा पांव में सूजन (एक टांग्या) रोग से भी पशुओं की मौत का कारण भी बन रहा है। श्वानों में बढ़ती विभिन्न बीमारियों और बकरियों के पेट फूलने, हरा चारा अधिक खाने से और बारिश में मवेशियों के गीले होने से पशु बीमार हो रहे हैं।

सोमवार के बाद मंगलवार को नगर के पशु चिकित्सालय में बड़ी संख्या में बीमार मवेशी, पशु पहुँचे। शासकीय जिला पशु चिकित्सालय में इन दिनों प्रतिदिन दो दर्जन से अधिक बीमार पशु पहुँच रहे हैं। बारिश में पशुओं को भी सर्दी, खांसी, ज्वर, दस्त का रोग होता है। पशु जब बीमार होता है तब वह खाना कम देता है, सुस्ती छायी रहती है, नाक बहती है और घुड़-घुड़ की आवाज आती है।