राहुल पर घोषित हुआ ईनाम

 

(ब्यूरो कार्यालय)

केलवारी (साई)। धोखाधड़ी के आरोपी रेत कारोबारी राहुल शिवहरे पिता राज कुमार शिवहरे को गिरफ्तार करवाने या उसकी गिरफ्तारी में सहयोग करने वाले को 25 सौ रूपये ईनाम दिये जाने की घोषणा जबलपुर के पुलिस अधीक्षक ने की है।

ज्ञातव्य है कि धूमा निवासी राहुल शिवहरे ने अभिलेक चौकसे के साथ फर्जी कागजात तैयार कर धोखाधड़ी की थी। प्रार्थी ने इस आशय की शिकायत कैंट थाना जबलपुर में की थी, जिसमें उन्होंने कहा था कि वर्ष 2014 में उन्होंने केवलारी के समीप स्थित खुर्सीपार रेत खदान में हिस्सेदारी की थी। महिष्मति कंपनी ने इस खदान को 05 वर्ष के ठेके पर लिया था, जिसका बयाना 70 लाख रूपये दिया जाना था।

प्रार्थी अभिलेक चौकसे का कहना है कि महिष्मति कंपनी के नाम पर राहुल शिवहरे ने उनसे 45 प्रतिशत की हिस्सेदारी देने की बात कहते हुए 32 लाख रूपये लिये थे। प्रार्थी का कहना है कि उन्होंने यह रकम गवाहों के सामने दिये और दोनों के बीच 29 जनवरी 2015 को नोटरी की उपस्थिति में अनुबंध हुआ। इसके बाद खदान का काम चालू हुआ जो आज भी जारी है।

प्रार्थी ने बताया कि खदान चालू होने के बाद राहुल शिवहरे ने उन्हें साढ़े सात – साढ़े सात लाख रूपये के दो चैक दिये थे, इसके बाद जब भी शेष राशि का हिसाब करने की बात की जाती थी वह उसे टाल देता था। कभी काम का बहाना तो कभी व्यस्तता बताकर राशि का हिसाब किताब करने में राहुल शिवहरे ने आनाकानी करना प्रारंभ कर दिया। प्रार्थी का कहना है कि जब वह राशि के लिये उसे बार – बार फोन करने लगा तो राहुल ने उन्हें जान से मारने की धमकी दी और यह बात एक बार आमने सामने भी हुई।

जबलपुर के कैंट थाने में लिखवायी गयी अपनी रिपोर्ट में प्रार्थी अभिलेक चौकसे का कहना है कि आरोपी राहुल शिवहरे रसूखदार व्यक्ति है और भाजपा के बड़े नेताओं से उसकी निकटता है। पीड़ित ने अपनी रिपोर्ट में शीघ्र ही दोषी व्यक्ति पर कार्यवाही की माँग की थी। पुलिस ने प्रार्थी की रिपोर्ट पर 420,506 का मामला कायम कर लिया था और उसकी गिरफ्तारी के लिये तलाश की जा रही है।

धूमा पुलिस को गिरफ्तार करने के निर्देश : इस घटना की जानकारी जैसे ही आरोपी राहुल शिवहरे को लगी तो उसने अग्रिम जमानत के लिये प्रयास किया, लेकिन वह अस्वीकार हो गयी। न्यायालय से अग्रिम जमानत न मिलने के बाद यह आरोपी लगातार फरार है, जिसे पुलिस तलाश कर रही है।

पुलिस को यह आरोपी नहीं मिला है, जिसके कारण जिला पुलिस अधीक्षक जबलपुर ने इसके विरूद्ध ईनाम की घोषणा की है। पुलिस अधीक्षक ने उद्घोषणा की है कि जो भी व्यक्ति राहुल शिवहरे को गिरफ्तार करवायेगा या फिर उसकी गिरफ्तारी के लिये मदद करेगा उसे 25 सौ रूपये का नगद पुरूस्कार दिया जायेगा। पुलिस अधीक्षक ने धारा 80ए के तहत यह कार्यवाही की है, जिसमें उन्होंने पुरूस्कार वितरण में अपने निर्णय को अंतिम कहा है।

4 thoughts on “राहुल पर घोषित हुआ ईनाम

  1. Pingback: havereplica.com
  2. Pingback: Software testing

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *