पत्रकारों ने सम्हाली शाला की भूमि बचाने की कमान

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

छपारा (साई)। उत्कृष्ट विद्यालय परिसर और बाउंड्री वाल के अंदर विद्यालय की भूमि को बचाने के लिये नगर के पत्रकार एकजुट हो गये हैं जिसके बाद जिला कलेक्टर ने उक्त भूमि पर हो रहे निर्माण कार्य पर तत्काल रोक लगाने के आदेश जारी कर दिये हैं।

उल्लेखनीय है कि चार, पाँच दिनों पहले उत्कृष्ट विद्यालय के बाउंड्री वाल और परिसर के अंदर एक समाज के लिये सामुदायिक भवन का छपारा पंचायत के द्वारा लेआउट दिया जाकर निर्माण कार्य भी प्रारंभ कर दिया गया था। उसके बाद नगर के पत्रकारों ने एकजुटता दिखाते हुए विद्यालय और इसमें पढ़ने वाले हजारों छात्र – छात्राओं को हितों को देखते हुए जिला कलेक्टर प्रवीण सिंह से मुलाकात कर संपूर्ण मामले से अवगत कराने के साथ ही साथ एक ज्ञापन विद्यालय के हितों को ध्यान में रखते हुए सौंपा।

पत्रकारों की इस नेक पहल पर संवेदनशील जिला कलेक्टर ने तत्काल छपारा तहसीलदार को विद्यालय परिसर और बाउंड्री वाल के अंदर हो रहे सामुदायिक भवन निर्माण कार्य पर तत्काल रोक लगाने के आदेश जारी कर दिये हैं।

भाजपा और काँग्रेस के नेताओं ने साधी चुप्पी : उत्कृष्ट विद्यालय परिसर और बाउंड्री वाल के अंदर हो रहे एक समाज के सामुदायिक भवन निर्माण कार्य पर छपारा के भाजपा और काँग्रेस के नेताओं सहित चुने हुए जन प्रतिनिधि विद्यालय के हितों को दरकिनार करते हुए चुप्पी साध कर तमाशा देख रहे हैं जबकि विद्यालय प्रबंधन के साथ ही साथ इसमें अध्ययनरत विद्यार्थियों ने भाजपा और काँग्रेस के नेताओं तथा जन प्रतिनिधियों के अलावा स्थानीय प्रशासन सहित जिला प्रशासन से भी विद्यालय की भूमि को बचाने के लिये गुहार लगायी थी।

पत्रकारों ने भेंट किया पीपल का पौधा : छपारा पत्रकार संगठन ने ज्ञापन और चर्चा उपरांत जिला कलेक्टर प्रवीण सिंह को हरियाली अमावस्या के पावन पर्व पर पीपल का पौधा भेंट करते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना के साथ ही साथ उत्कृष्ट विद्यालय छपारा के हितों में लिये गये निर्णय का स्वागत करते हुए जिला कलेक्टर को साधुवाद भी दिया है।

इस अवसर पर अश्वनी मिश्रा, प्रदीप श्रीवास्तव, चंद्र शेखर श्रीवास्तव, गजेंद्र गब्बर सिंह ठाकुर, रामभरोस साहू, सुधीर नागले, हाशिम खान, फैयाज खान, लक्ष्मण सिंह, महेश पापर, अमित श्रीवास्तव, विलाल अंसारी, मुकेश सुपलभक्त, सुनील मोनू साहू और यादवेंद्र गोल्डी सिंह उपस्थित थे।