एनआईसी लिख रहा जिले का नया इतिहास!

 

 

सरकारी वेबसाईट बनी मज़ाक, गायब हैं अनेक महत्वपूर्ण तथ्य!

(अखिलेश दुबे)

सिवनी (साई)। कलेक्टर कार्यालय में संचालित नेशनल इंफरमेशन सेंटर (एनआईसी) के द्वारा जिले का जिस तरह का नक्शा देश दुनिया के सामने पेश किया जा रहा है उसे देखकर आने वाली पीढ़ी सिवनी जिले के मूल इतिहास को बिसार देगी। ऐतिहासिक, धार्मिक, सामरिक महत्व के तथ्यों को एनआईसी के द्वारा बिसार दिया गया है।

ज्ञातव्य है कि सिवनी जिले के इतिहास को लेकर कुछ किताबें लिखी गयीं थीं। इनमें सत्तर के दशक में प्राचार्य रहे स्व.शिवराज नंदन शर्मा के द्वारा सिवनी प्राचीन अर्वाचीन एवं सेवा निवृत्त जिला शिक्षा अधिकारी जानकी प्रसाद पाठक के द्वारा लिखी गयी सिवन आज कल काफी हद तक मशहूर रही। इन किताबों में सिवनी जिले के इतिहास की कड़ियों को जोड़ने का प्रयास किया गया था।

कलेक्टर कार्यालय के उच्च पदस्थ सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि सरकार के द्वारा प्रदेश में पर्यटकों को लुभाने और आम नागरिकों को सरकार से संबंधित जानकारियां मुहैया करवाने के लिये केंद्र सरकार के एनआईसी के जरिये प्रदेश के हर जिले की वेब साईट्स को नये सिरे से बनवाकर अद्यतन करवाने का काम आरंभ किया गया है।

सूत्रों ने बताया कि दीगर गैर जरूरी कामों में उलझे प्रशासनिक अफसरों की कथित लापरवाही के चलते सिवनी डॉट एनआईसी डॉट इन नामक इस वेब साईट पर जिले के अनेक सामरिक, धार्मिक, ऐतिहासिक महत्व की चीजों को ही बिसार दिया गया है। इसमें बहुत ही कम जानकारियां समाहित की गयी हैं।

सूत्रों ने बताया कि आधी अधूरी बनी इस वेब साईट का, आनन फानन में लोकार्पित भी कर दिया गया है। शनिवार को जब इस बेब साईट को खोलकर देखा गया तो इसमें शालाओं में महज़ महरानी लक्ष्मी बाई उच्चतर माध्यमिक शाला का ही जिकर मिल रहा है। अस्पतालों में जिला चिकित्सालय एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केद्र लखनादौन का ही उल्लेख इसमें मिल रहा है।

इसके अलावा पर्यटन स्थलों में महज पेंच नेशनल पार्क, पोस्टल सेवाओं में सिवनी का मुख्य डाकघर, बैंक में बैंक ऑफ बड़ौदा, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन ओवरसीज बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, भारतीय स्टेट बैंक की मुख्य शाखा एवं यूनियन बैंक ऑफ इंडिया को ही इसमें प्रदर्शित किया जा रहा है।

जिले में रूकने के लिये एमपी टूरिज्म के टुरिया गेट स्थित किपलिंग कोर्ट एवं वन विभाग के एक रेस्ट हाउस का उल्लेख किया गया है। जिले के मुख्य त्यौहारों में मकर संक्रांति का ही उल्लेख किया गया है, जबकि रक्षा बंधन के उपरांत कजलियां, महाशिवरात्रि आदि पर्वों को जिले में बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है। सिवनी के मुख्य व्यंजनों में कुंदे के पेड़े को ही स्थान दिया गया है जबकि सिवनी का फरारी नमकीन, लखनादौन की रसमलाई, धूमा का कालाजाम देश भर में मशूहर है।

(क्रमशः जारी)