क्या हुआ जलावर्धन योजना का : धनराजू

 

 

सिवनी पहुँचे पूर्व जिलाधिकारी ने किया बबरिया का निरीक्षण

(अय्यूब कुरैशी)

सिवनी (साई)। सिवनी के जिलाधिकारी रहे एवं वर्तमान में प्रदेश के कौशल विकास विभाग के संचालक धनराजू एस. गत दिवस सिवनी प्रवास पर थे। बबरिया तालाब के निरीक्षण के दौरान उन्होंने उपस्थित लोगों से जलावर्धन योजना की जानकारी ली। उन्होंने जिलाधिकारी रहते हुए लगाये गये पौधों की सेहत भी जानी।

बताया जाता है कि कौशल विकास विभाग के संचालक धनराजू एस. शनिवार की सुबह छिंदवाड़ा से सिवनी पहुँचे थे। वे जब तक सिवनी में जिलाधिकारी रहे तब तक उनके द्वारा किये गये कार्य और उनकी सादगी के लोग कायल रहे हैं। लोगों का मानना है कि सालों बाद कोई जिलाधिकारी सिवनी से ईमानदार अधिकारी की छवि लेकर गया है।

शनिवार की सुबह बबरिया तालाब के पास पूर्व जिलाधिकारी धनराजू एस. के पहुँचने की खबर शहर में सुबह – सुबह ही आग की तरह फैल गयी। उनके प्रशंसक अनेक लोग फौरन ही बबरिया तालाब जा पहुँचे। अपने चिर परिचित चेहरों को देखकर धनराजू एस. के द्वारा भी गर्मजोशी से सभी से मिला गया।

उपस्थित लोगों ने बताया कि जिलाधिकारी रहे धनराजू एस. के द्वारा बताया गया कि उनके कार्यकाल में बबरिया के कायाकल्प की योजना के दौरान बबरिया में वृक्षारोपण का काम भी युद्ध स्तर पर किया गया था। उन्होंने बताया कि उस दौरान कितने – कितने क्षेत्र को किस किस अधिकारी के जिम्मे किया गया था ताकि पौधों को बचाया जा सके।

लोगों के अनुसार इस दौरान धनराजू एस. के द्वारा नवीन जलावर्धन योजना के बारे में भी लोगों से पूछा गया। लोगों ने जब बताया कि वर्तमान जिलाधिकारी के द्वारा 28 फरवरी तक का अल्टीमेटम दिये जाने के बाद अब तक इस योजना की क्या प्रगति हुई इस बारे में जनता को कुछ भी नहीं बताया जा रहा है, इस पर उनके ललाट पर लकीरें उभरती दिखायी दीं।

लोगों ने बताया कि धनराजू एस. ने यह भी बताया कि उनके कार्यकाल में उन्होंने नवीन जलावर्धन योजना के अंतर्गत भीमगढ़ का पानी लाकर बबरिया तालाब में डालने का प्रस्ताव तैयार करवाया था। उल्लेखनीय होगा कि समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया एवं दैनिक हिन्द गजट के द्वारा लगातार ही इसी बात को दोहराया जाता रहा है कि भीमगढ़ का पानी बबरिया में लाया जाकर बबरिया के जरिये ही जिला मुख्यालय में पानी प्रदाय किया जाये, ताकि आपात स्थिति में दो चार दिन तक लाईन में खराबी भी आती है तो कम से कम बबरिया में संग्रहित पानी का उपयोग तो नागरिकों के लिये किया जा सकता है।

इसके अलावा बारिश के चार माह में भीमगढ़ से बबरिया में पानी लिफ्ट करने की आवश्यकता नहीं होगी, जिससे पालिका की बिजली की बचत होगी। प्रशासन के द्वारा नागरिकों के हित में बनायी जा रही योजनाओं में नागरिकों के सुझावों को ही दरकिनार कर देने से इस तरह की स्थितियां उतपन्न होती हैं।

बहरहाल, लोगों ने यह भी बताया कि धनराजू एस. के द्वारा यह भी कहा गया कि सिवनी की जलावर्धन योजना के संबंध में अगर कोई प्रयास करने हों तो सिवनी के लोग उनके जरिये स्थानीय शासन विभाग के अधिकारियों से भेंट कर योजना को जल्दी स्वीकृत भी करवा सकते हैं।