मलेरिया प्रभावित गाँवों की सुध ली स्वास्थ्य विभाग ने

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। सिवनी जिले में अधिक मलेरिया प्रभावित 18 चिन्हित ग्राम के लोगों को होम्योपैथिक मलेरिया रोग प्रतिरोधक दवा मलेरिया ऑफ 200 का सेवन कराया जा रहा है। यह दवा ग्रामीणों को आयुष मलेरिया रोग नियंत्रण अभियान के तहत दी जा रही है। दवा के सेवन से व्यक्ति में मलेरिया रोग के प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होती है।

अभियान का प्रथम चरण तीन अगस्त से जिले के चिन्हित 18 ग्राम में आरंभ हुआ है। प्रथम चरण में उक्त दवा की कुल तीन खुराक सप्ताह में एक बार देनी है। तीन अगस्त को जिले में 8415 लोगों को प्रथम खुराक का सेवन कराया गया है। इसकी पुष्टि जिला आयुष अधिकारी डॉ.यशवंत माथुर ने की है।

उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी चिन्हित ग्रामों में आशा एवं आँगनबाड़ी कार्यकर्त्ता द्वारा ग्राम के प्रत्येक व्यक्ति को दवा खिलवायी जा रही है। अभियान में लखनादौन विकास खण्ड के आठ ग्राम, कुरई के पाँच ग्राम, घंसौर के दो ग्राम, केवलारी दो ग्राम, छपारा के एक ग्राम हैं। उक्त सभी ग्राम अधिक मलेरिया प्रभावित में शामिल हैं।

डॉ.माथुर ने बताया कि इस अभियान के नोडल प्रभारी डॉ.विपिन श्रीवास्त्री को बनाया गया है। अभियान में संयुक्त रूप से स्वास्थ्य विभाग, मलेरिया विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग एवं आयुष विभाग आपस में समन्वयक कर संचालन कर रहा है। प्रथम चरण के तहत तीन अगस्त को दवा खिला दी गयी है। 10 व 17 अगस्त को दवा की दूसरी और तीसरी खुराक दी जायेगी। द्वितीय चरण में 11 सितंबर को पहली खुराक दी जायेगी। इसके बाद 18 व 25 सितंबर को दवा की दूसरी और तीसरी खुराक दी जायेगी।