खातरकर को यथावत पदस्थ रखने कवायद आरंभ!

 

 

विधानसभा अध्यक्ष से की थी शिकायत, कोरी की हुई थी पदस्थापना

(सादिक खान)

सिवनी (साई)। जनपद पंचायत की चर्चित और विवादित मुख्य कार्यपालन अधिकारी सुमन खातरकर को सिवनी में यथावत पदस्थ रखने के लिये काँग्रेस का एक धड़ा सक्रिय बताया जा रहा है। विधानसभा अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति से काँग्रेस के लोगों के द्वारा की गयी शिकायत के उपरांत सुमन खातरकर का तबादला सिवनी से कर दिया गया था।

जनपद पंचायत सिवनी के उच्च पदस्थ सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि अस्पताल मित्र योजना का आगाज़ करने सिवनी आये विधानसभा अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति से मिलकर जनपद पंचायत की अध्यक्ष प्रतीक्षा राजपूत के द्वारा अनेक काँग्रेसियों के साथ मिलकर जनपद पंचायत की सीईओ की कार्यप्रणाली से अवगत करवाया गया था।

सूत्रों ने आगे बताया कि इस आदेश के खिलाफ सुमन खातरकर माननीय उच्च न्यायालय भी गयीं थीं, माननीय उच्च न्यालय के द्वारा सुमन खातरकर की याचिका पर उनके ही आग्रह पर बिना किसी आदेश को पारित किये हुए ही इसका निराकरण कर दिया गया था।

सूत्रों की मानें तो इसके उपरांत सुमन खातरकर के स्थान पर शासन के द्वारा छतरपुर जिले के बिजावर की जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी राम किशोर कोरी को जनपद पंचायत का मुख्य कार्यपालन अधिकारी पदस्थ कर दिया गया था। राम किशोर सोनी अपना पदभार ग्रहण करने सिवनी पहुँच भी गये हैं।

सूत्रों ने आगे बताया कि इसी बीच काँग्रेस का एक धड़ा, सुमन खातरकर का तबादला आदेश निरस्त करवाने की जुगत में लग गया। इस धड़े ने जिले के प्रभारी मंत्री के जरिये सुमन खातरकर का तबादला निरस्त करवाने के लिये 11 जुलाई को प्रभारी मंत्री सुखदेव पांसे से एक नोटशीट चलवा दी है।

इधर, काँग्रेस के अंदर जिले में चल रहे तबादला उद्योग को लेकर तरह – तरह की प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं। काँग्र्रेस के अंदर चल रहीं चर्चाओं के अनुसार काँग्रेस संगठन को मजबूत करने और प्रदेश सरकार की योजनाओं को जन-जन तक पहुँचाने की बजाय नेताओं के द्वारा तबादला उद्योग पर अपना ध्यान केंद्रित किया हुआ है।