शिवी खरे का सुयश, सीए में मारी बाजी

 

(सादिक खान) 

सिवनी (साई)। सेवा निवृत जिला मलेरिया अधिकारी स्व. शंभू दयाल खरे की पौत्री शिवी खरे ने एसोसिएटेड चार्टर्ड एकाऊॅटें की परीक्षा में सफलता हासिल की है। मंगलवार को घोषित सीएस अंतिम वर्ष (फायनल) के परिणाम घोषित किए गए हैं।

सीए बनीं शिवी खरे ने बताया कि चार्टड एकाऊॅटेंट की पढ़ाई और परीक्षा बहुत ही कठिन होती है। इसके लिए लगातार ही पढ़ाई करते रहना पड़ता है। सीए का कोर्स बहुत ज्यादा होता है, साथ ही आर्टिकलशिप (किसी सीए के अधीन काम करते हुए काम सीखना) भी इस दौरान पढाई करने के साथ ही साथ करना पड़ता है।

ज्ञातव्य है कि सीए के प्रवेश हेतु सीपीटी की परीक्षा उत्तीर्ण करने के उपरांत किसी वरिष्ठ सीए के अधीन ढाई साल तक काम करते हुए काम सीखना पड़ता है। इस दौरान साथ में अध्ययन भी करना होता है। इसके लिए संस्थान के द्वारा प्रथक से कोई क्लास या प्रशिक्षण आदि नहीं दिया जाता है। बीच बीच में अवश्य सेमिनार आदि के जरिए जानकारियां दी जाती हैं।

शिवी खरे की माता रचना खरे सेंट फ्रांसिस ऑफ एसिसी स्कूल में सहायक प्राध्यापक एवं पिता लिमटी खरे समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया के संपादक हैं। आपके ताऊ संजय खरे नागपुर में चार्टर्ड एकाऊॅटेंट और शरद खरे सिवनी से प्रकाशित दैनिक हिन्द गजट के संपादक हैं। शिवी ने शालेय शिक्षा सिवनी के सेंट फ्रांसिस ऑफ एंसिसी स्कूल सिवनी से प्राप्त की है।

सीए शिवी खरे ने अपनी इस उपलब्धि का श्रेय अपने माता पिता और परिजनों सहित चार्टर्ड एकाऊॅटेंट मकरंद जोशी जिनके अधीन उन्होंने अपनी आर्टिकलशिप पूरी की के अलावा चार्टड एकाऊॅटेंट संजय खरे, चार्टर्ड एकाऊॅटेंट अखिलेश शुक्ला, सीए कन्हैया सेवलानी एवं अन्य परिचितों को देती हैं।

शिवी के चार्टर्ड एकाऊॅटेंट बनने पर उनके परिचितों, मित्रों, हितचिंतकों आदि ने उनकी इस सफलता पर उन्हें बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामनाएं की हैं।