कैदी बॉयफ्रेंड से मिलने के लिए पहचान छिपाकर तिहाड़ जेल पहुंची महिला

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

नई दिल्‍ली (साई)। तिहाड़ जेल में एक महिला पहचान छिपाकर 4 बार अपने कैदी बॉयफ्रेंड से मिलने गई थी।

यह मामला तिहाड़ जेल की सुरक्षा को लेकर सवाल खड़े करने वाला है। महिला ने खुद को एक एनजीओ का सदस्य बताते हुए अपने बॉयफ्रेंड से मुलाकात के लिए तिहाड़ जेल में एंट्री की थी। यही नहीं महिला ने 4 दिनों में 5 घंटे तिहाड़ जेल के अंदर बॉयफ्रेंड के साथ बिताए। जेल प्रशासन ने महिला के रेकॉर्ड्स को चेक नहीं किया।

हत्या के मामले में जेल में बंद युवक की एक मैट्रिमोनियल वेबसाइट पर महिला से बात शुरू हुई थी। युवक ने महिला से बातचीत में खुद को तिहाड़ जेल का एंप्लॉयी बताया था। वह बीते कुछ महीनों से महिला के संपर्क में था और जुलाई में 26 दिन की अपनी परोल के दौरान महिला से मुलाकात की थी।

सूत्रों के मुताबिक हत्या के मामले में हेमंत तिहाड़ जेल की बैरक नंबर 2 में बंद है। उसने महिला से शादी के लिए सहमति जताई थी, जिसकी पहली शादी से एक बच्ची भी है। यही नहीं कैदी हेमंत ने जेल परिसर में स्थित इंडियन बैंक की शाखा में एक खाता भी खुलवाया है। इस बैंक अकाउंट में नॉमिनी के तौर पर हेमंत ने महिला का नाम दर्ज कराया है।

परोल खत्म होने पर हेमंत तिहाड़ जेल में लौट आया था और इसके बाद महिला ने खुद को एनजीओ का मेंबर बताते हुए जेल में एंट्री की। यही नहीं जेल अधीक्षक के ऑफिस में दोनों के बीच कई घंटों तक की मुलाकात भी हुई। यहां तक किसी भी जेल अधिकारी ने महिला के दस्तावेजों की जांच भी नहीं की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *