गुरु रविदास मंदिर ढहाने में दिल्ली सरकार संलिप्त नहीं : केजरीवाल

 

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

नई दिल्‍ली (साई)। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को कहा कि तुगलकाबाद में बने गुरु रविदास मंदिर को ढहाने में उनकी सरकार की कोई भूमिका नहीं है।

आप प्रमुख की इस टिप्पणी से पहले बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती ने आरोप लगाया था कि यह घटना केंद्र और आम आदमी पार्टी (आप) सरकार की मिलीभगत का नतीजा है। मायावती के ट्वीट का जवाब देते हुये केजरीवाल ने कहा कि घटना के लिए भाजपा नीत केंद्र सरकार के साथ आप पार्टी की मिलीभगत के उनके आरोप से उन्हें दुख पहुंचा है। मायावती ने आरोप लगाते हुये कहा था कि यह घटना ‘‘जातिवादी मानसिकता’’ को प्रकट करती है।

केजरीवाल ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘मायावती जी, मंदिर के गिराए जाने से हम सब लोग बेहद व्यथित हैं। इसका कड़ा विरोध करते हैं। मुझे दुःख है कि आप केंद्र के साथ इसके लिए हमें दोषी मानती हैं। दिल्ली में भूमि केंद्र सरकार के अधीन आती है। हमारी सरकार का इस मंदिर के गिराये जाने में कोई हाथ नहीं।’’

इससे पहले बसपा प्रमुख ने इस मंदिर को दोबारा बनवाये जाने की मांग की। केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने मंगलवार को कहा कि केंद्र कोई समाधान निकालने और इसे ‘‘पुनर्स्थापित’’ करने के लिए संभवत: किसी वैकल्पिक स्थल की पहचान करने को प्रतिबद्ध है। पुरी ने ट्वीट किया, ‘‘हम, दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) के उपाध्यक्ष के साथ कोई समाधान ढूंढ़ने और एक ऐसे स्थल की पहचान करने को प्रतिबद्ध हैं जहां मंदिर पुनर्स्थापित किया जा सके।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हमने प्रभावित पक्षों को इस संबंध में आवश्यक निर्देश जारी करने के लिए माननीय न्यायालय में अपील दायर करने का भी सुझाव दिया है।’’ पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को बताया कि यह कार्रवाई संबंधित एजेंसियों ने शनिवर को पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में की थी। दिल्ली विकास प्राधिकरण ने सोमवार को जारी बयान में कहा था कि उच्चतम न्यायालय के आदेश पर ढांचे को हटा दिया गया। उसने अपने बयान में मंदिरशब्द का इस्तेमाल नहीं किया।

2 thoughts on “गुरु रविदास मंदिर ढहाने में दिल्ली सरकार संलिप्त नहीं : केजरीवाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *