मछुआरों ने उप संचालक को बताई समस्याएं

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। मछुआ समाज के लोग आर्थिक समस्या से जूझ रहे हैं, शासन की नीति से उन्हें समस्या हो रही है। वर्षाकाल में छोटे मछुआरों पर कार्य के दौरान कार्रवाई होती है, जिससे वे आजीविका नहीं चला पा रहे हैं।

इयी तरह की अन्य समस्याओं को लेकर मछुआ समाज के लोगों ने मत्स्योद्योग विभाग के उप संचालक से मुलाकात कर ज्ञाापन सौंपा। पारम्परिक कार्य कर रहे समाजिक जनों की समस्याओं से अवगत कराया व शासन की योजनाओं का लाभ दिलाने का आग्रह किया।

मत्स्योद्योग विभाग के उप संचालक केएल मरावी को ज्ञापन सौंपते हुए भाजपा मछुआ प्रकोष्ठ के जिला अध्यक्ष अरूण कश्यप ने कहा कि 15 जून से 15 अगस्त तक मत्स्याखेट पर प्रतिबंध लगाया जाता है। इस अवधि में मछुआरों को जीविका चलाने एवं भरण-पोषण व बच्चों की शिक्षा व तीज-त्योहार में आर्थिक समस्या का सामना करना पड़ता है। इस दिशा में मछुआरों के हित में सार्थक समाधान किया जाने की अपेक्षा व्यक्त की। शासन रोजगार व्यवसाय को लेकर नवीन योजनाओं का क्रियान्वयन कर रही है, मछुआरों के लिए भी ध्यान दिए जाने की मांग की है।

इस अवसर पर उपस्थित मोहन कहार, राजेन्द्र कुमार, विजेन्द्र कश्यप, बलराम कश्यप, विशाल कश्यप, राजा कश्यप, विजय कुमार, मुकेश कश्यप, दादू बनवारी, पवन बरमैया व अन्य ने बताया कि मछुआरों का पैतृक व्यवसाय मछली पालन तालाब लीज पर लेने के बाद भी योजनाओं के विपरीत क्रियान्वयन किया जा रहा है। जैसे कि स्थानीय लोगों को प्राथमिकता लोगों को प्राथमिकता दिए जाने पर मछुआरों के अधिकार क्षीण हो रहे हैं। मछुआरों के जीविकोपार्जन के लिए इस दिशा में सार्थक निर्णय लेने की बात भी कही गई।

उन्होंने कहा कि मछुआरा समाज अब भी शिक्षा में पिछड़ा हुआ है। इन परिवार के बच्चों को उचित शिक्षा प्राप्त कराने व रोजगार के अवसर प्रदान कराने की ओर शासन से आवश्यकता अनुसार सहयोग नहीं मिल रहा है। इस दिशा में ध्यान देने की उम्मीद जाहिर की।

मछुआ समिति व मछुआरों के लम्बित प्रकरणों पर शीघ्र समाधान की अपेक्षा व्यक्त की, ताकि उन्हें रोजगार के पर्याप्त अवसर मिल सकें। मछुआरों को प्राप्त जलाशय, तालाब पर सूखाग्रस्त, बाढग्रस्त आपदा जैसे हालात में शासन से नुकसानी का लाभ दिए जाने के साथ ही तालाब में जाल व अन्य सामग्री की चोरी होने की स्थिति में उचित राहत राशि प्रदान किए जाने की अपेक्षा व्यक्त की है।

मछुआ समाज के सदस्यों द्वारा दिए गए ज्ञापन व उनकी समस्याओं से अवगत होकर मत्स्योद्योग उपसंचालक मरावी ने कहा कि मछुआरों की समस्या दूर करना उनकी प्राथमिकता है। इस ज्ञापन को शासन तक पहुंचाकर समाधान व सहयोग के लिए हरसंभव प्रयास की बात कही है।