प्रशिक्षण से विद्यार्थी होंगे कार्य में दक्ष : बाटला

 

स्वामी विवेकानंद कैरियर मार्गदर्शन प्रशिक्षण प्रारंभ

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। विद्यार्थियों को आज के दौर में अध्यापन को रोजगार से जोडऩा चाहिए क्योंकि बढ़ती विद्यार्थियों की संख्या को देखते हुए हर किसी को रोजगार दे पाना कठिन है ऐसी स्थिति में विद्यार्थी को स्वयं के रोजगार तलाशना जनहित में होगा।

उक्त उद्गार अध्यरित कोचिंग इंस्टट्यूट के संचालक आशीष सोनी द्वारा पी.जी.कॉलेज में व्यक्त किये गये। आपने कहा कि इसी बात को स्वामी विवेकानंद कैरियर मार्गदर्शन योजना के अंतर्गत दिया जा रहा है। जिससे वह स्वावलंबी बन सके आज के दौर में स्वयं के रोजगार के साथ-साथ ऐसा कार्य करना चाहिए जिससे आप दूसरों को भी रोजगार दे सकें।

कार्यक्रम के दौरान संयोजक डॉ. दयाराम डहेरिया ने कहा कि विद्यार्थी को हमेशा अपनी रूची के अनुकूल रोजगार का चयन करना चाहिये साथ ही रोजगार को बढ़ाने के लिए समय – समय पर विषय विशेषज्ञों का मार्गदर्शन भी लेना चाहिए। प्रो.सुरेश बाटला ने कहा कि स्वामी विवेकानंद कैरियर मार्गदर्शन शासन का एक ऐसा उपक्रम है जो हमे अध्ययन के साथ-साथ कार्य दक्षता के लिए भी प्रेरित करता है और यह प्रशिक्षण निश्चित ही विद्यार्थियों के भविष्य को लेकर दिया जा रहा है।

डॉ. अरविंद चौरसिया ने कहा कि आज के युग में रोजगार के लिए अनेक अवसर है चाहे टेक्रिकल क्षेत्र हो या फिर अन्य सभी में अवसर है जिसका लाभ सभी को लेना चाहिए। ओपी जैन ने कहा कि एक माह तक चलने वाले इस कार्यक्रम के दौरान अनेक विषय-विशेषज्ञों का मार्गदर्शन मिलता रहेगा और विद्यार्थियों की जिज्ञासा का समाधान होगा।