महर्षि विद्या मंदिर में मनाई गई जन्माष्टमी

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। श्रीकृष्ण की आराधना से मानव जीवन की कई मुश्किलों का अंत हो जाता है जब भगवान श्रीकृष्ण का धरती पर अवतरण हुआ तो उन्होंने अपने भक्तों के कष्टों का हर तरह से निवारण किया। उक्त उदगार प्राचार्य अशोक डहेरिया ने व्यक्त किए।

उन्होंने कहा कि मानव मात्र के दुखों को दूर करने के लिये श्रीकृष्ण ने दुष्टों का संहार किया और जगत कल्याण के लिये कभी शस्त्र उठाकर तो कभी निःशस्त्र रहरक आसुरी शक्तियों को काल कवलित किया। भगवान श्रीकृष्ण की आराधना किसी भी तरह से की जाये वह फलदायी होती है। श्री मदभागवत, गीता, मधुराष्टक और ऐसे कई श्लोकों के जरिये श्रीकृष्ण की उपासना कुछ खास श्लोकों से करने से धन, धान्य की वृद्धि होती है, मनोकामना पूरी होती है और जीवन के कष्टों का अंत होता है।

प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी महर्षि विद्या मंदिर विद्यालय में धूमधाम से भव्य कृष्ण जन्माष्टमी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में उपस्थित विद्यालय के डिप्टी डायरेक्टर आशीष सक्सेना, प्राचार्य अशोक डहेरिया तथा अतिथि मनीष भौसले शामिल हुये। इस अवसर में विभिन्न रंग में रंगे नन्हे मुन्ने बच्चों द्वारा राधाकृष्ण की झांकी सजाई गई तथा फ्रैन्सी ड्रेस का आयोजन किया बच्चों द्वारा कृष्ण भजन का रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया।