35 हजार स्कूली बच्चों को आधुनिक किचन से मिलेगा मध्यान्ह भोजन

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

भोपाल (साई)। भोपाल और रायसेन के शहरी स्कूलों के 35 हजार छात्रों को अत्याधुनिक किचन में पका हुआ मध्यान्ह भोजन मिलेगा।

अक्षयपात्र फाउंडेशन किचन स्थापित करेगा और दोनों जिले के शहरी क्षेत्र के स्कूलों में मध्यान्ह भोजन पहुंचाएगा। इसके लिए सोमवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ की मौजूदगी में एचईजी कंपनी मंडीदीप, अक्षयपात्र फाउंडेशन और भोपाल व रायसेन जिला पंचायतों के बीच करार हुआ। किचन स्थापित करने के लिए एचईजी ने अक्षयपात्र फाउंडेशन को सात करोड़ 30 लाख रुपए का अनुदान सीएसआर के तहत दिया है।

मुख्यमंत्री ने इस मौके पर कहा कि अक्षयपात्र फाउंडेशन बच्चों को भोजन देने का जो काम कर रहा है, वो बहुत नेक है। उन्होंने अन्य जिलों में भी इसके विस्तार की संभावनाएं तलाशने के लिए कहा। वहीं, एचईजी समूह के इस काम में सहयोग देने के लिए सराहना करते हुए कहा कि भोजन की कमी या अनुउपलब्धता के कारण शिक्षा में कमी आना या शिक्षा छूट जाना ठीक स्थिति नहीं है।

सरकार प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने की दिशा में काम कर रही है। एचईजी के अध्यक्ष रवि झुनझुनवाला, सीओओ मनीष गुलाटी और अक्षयपात्र फाउंडेशन की ओर से उपाध्यक्ष चंचलपति दास, भोपाल जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी सतीश कुमार एस और रायसेन जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी अभि प्रसाद ने करार पर हस्ताक्षर किए।

अक्षयपात्र फाउंडेशन ने बताया कि वो देश में 12 राज्य के स्कूलों में 17 लाख से ज्यादा बच्चों को मध्यान्ह भोजन देने का काम कर रहा है। इस दौरान ग्रामीण विकास मंत्री कमलेश्वर पटेल, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री अशोक बर्णवाल, भोपाल कलेक्टर तरुण पिथौड़े सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।