नहीं भरा गड्ढा, दुर्घटना की आशंका

 

(ब्यूरो कार्यालय)

आदेगाँव (साई)। नगर के गंजवार्ड, बस स्टैण्ड व वार्ड नंबर-15 में सड़कों के बीच नालियों के खुदे गड्ढों को लेकर वार्डवासी पिछले तीन माह से परेशान हो रहे हैं।

गंजवार्ड के कुछ मकानों मे जून माह में पेयजल आपूर्ति मे काला गंदा व मैला पानी की सप्लाई हो रही थी। इसी को संज्ञान मे लेते हुए ग्राम पंचायत के कर्मचारियों ने 19 जून को नाली में फूटी पाईप लाईन को निकालने के लिये नाली को खुदवाकर गड्ढा कर दिया।

इसी तरह वार्ड क्रमाँक-15 मंे रोड क्रॉस करती नाली पर पुलिया बनाने अथवा नाली के गहरीकरण करने के उद्देश्य से मई माह में ही छोटी नाली पर तोड़ फोड़ कर दी गयी थी पर शायद पंचायत कर्मी यह भूल गये कि पाईप लाईन को जोड़कर गड्ढे को भरना है। तोड़ी गयी नाली का निर्माण भी करवाना है। दो मार्गाें को जोड़ने वाले इस गंजवार्ड के तिराहे मार्ग के बीचों बीच बनी इस समस्या से निपटने के लिये पाईप लाईन तो जोड़ दी गयी पर लगभग ढाई से तीन माह बीत जाने के बाद भी अभी तक इस गड्ढे को प्लेट या चीप आदि से ढंका नहीं गया है।

ऐसा ही हाल वार्ड नंबर-15 में अजय संजय नेमा के मकान के सामने की रोड क्रॉस करती नाली का भी है। इसके निर्माण के लिये टीएस तो हो गया है पर फण्ड की कमी के कारण कार्य रुका हुआ है। बस स्टैण्ड मंे नरेश चौरसिया व श्रीराम नामदेव की दुकान के बीच से गुजरने वाले बस स्टैण्ड के पीछे की ओर जाने वाले मार्ग पर पड़ने वाली नाली के क्षतिग्रस्त हो जाने के कारण बीच मे बड़ा गड्ढा बन गया है। इन तीनों ही खुले गड्ढों मे बच्चों, बुजुर्गाें, वाहन चालकों या छोटे मूक जानवरों के गिरने का भय सदैव बना रहता है।

इन आधे अधूरे खुले गड्ढों से इन क्षेत्रों मे मच्छरों व अन्य जहरीले कीट पतंगों के निकलने से वायरल, मलेरिया बुखार, स्नोफीलिया, स्किन डिसीज व अन्य बीमारियां भी पैर पसार रही हैं। ऐसा नहीं है कि ऐसी लापरवाही पहली बार हुई हो। नगर में सफाई व्यवस्था, पाईप लाईन की टूट फूट पर जब तब ऐसी अव्यवस्थाएं देखने को मिलती रहती हैं।

यहाँ सड़कों की सफाई के लिये झाड़ू मारकर कचरे को स्थान – स्थान पर एकत्र किया जाता है, फिर उसे दो तीन दिन के अंतराल के बाद जगह – जगह उड़ते हुए कचरे को समेटने की कोशिश की जाती है। इसी तरह नालियों की सफाई भी होती है। नालियों से गीला कचरे व गंदगी को निकालकर घरों के सामने रख दिया जाता है। इसके बाद उस गीले कचरे के सूखने का दो चार दिनों तक इंतजार किया जाता है।

इसी इंतजार मंे निकला हुआ कचरा पुनः नालियों मे ही समा जाता है। ऐसे ही सिस्टम से यहाँ पर सफाई की जाती है। बस स्टैण्ड, गंज वार्ड एरिया में लगभग सप्ताह में एक बार, बुधवारी चौक, प्रेमनगर में माह दो माह मंे एक बार साहू मोहल्ला, बजरंग वार्ड, गाँधी वार्ड सहित शेष सभी वार्डाें में किसी त्यौहार पर ही सफाई का सिस्टम सा बन गया है जिसे वर्षों से ग्राम पंचायत आदेगाँव द्वारा फॉलो किया जा रहा है। ग्रामीणों ने इस सिस्टम को बदलकर नगर की सफाई व्यवस्था तोड़कर दो दिन के अंतराल से की ही किये जाने की बात कही है।