बिना सूचना बढ़ा दिया संपत्तिकर!

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। भाजपा शासित नगर पालिका परिषद पर बिना किसी पूर्व सूचना के संपत्ति कर बढ़ाये जाने के आरोप सेवा निवृत्त पुलिस अधिकारी महेश दत्त दुबे ने लगाये हैं।

एम.डी. दुबे ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि उनका एक मकान महावीर वार्ड में है। इस मकान का संपत्तिकर पूर्व में 728 रूपये था और अन्य कर मिलाकर उनसे 1456 रूपये वसूले जाते थे। इस साल उनके मकान का संपत्तिकर अचानक ही बढ़ाकर 1331 रूपये कर दिया जाकर अन्य कर, उपकर मिलाकर उनसे 2406 रूपये वसूले गये हैं।

उन्होंने बताया कि जब उनके द्वारा संपत्तिकर की रसीद में अंकित राशि का टोटल किया गया तो कुल कर 1906 रूपये बना जबकि उनसे 1906 रूपये के स्थान पर 2406 रूपये वसूले गये हैं। इस तरह कर संग्रहणकर्त्ता के द्वारा उनसे पाँच सौ रूपये ज्यादा वसूले गये हैं।

उन्होंने बताया कि इसके अलावा उन्हें एक अन्य रसीद 365 रूपये की दी गयी है। इस रसीद में उपभोक्ता सुविधा शुल्क का उल्लेख किया गया है। यह उपभोक्ता सुविधा शुल्क में किस तरह की सुविधा दी जा रही है इसका उल्लेख नहीं किया जाना आश्चर्य जनक ही है।

सेवा निवृत्त पुलिस अधिकारी एम.डी. दुबे ने मुख्य नगर पालिका अधिकारी से अपेक्षा व्यक्त की है कि इस मामले में सार्वजनिक तौर पर खुलासा किया जाये कि संपत्तिकर में कौन सा कर या उपकर कितने फीसदी लिया जा रहा है और सुविधा शुल्क किस बात का लिया जा रहा है।