नैनपुर तक एक और ट्रेन दौड़ाने की तैयारी

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

जबलपुर (साई)। जबलपुर से नैनपुर तक एक रेलगाड़ी और चलाने की तैयारी की जा रही है। अब सिवनी जिले के घंसौर क्षेत्र में दो रेलगाड़ियों को चलाया जा सकेगा।

भले ही बालाघाट ब्रॉडगेज परियोजना का काम सुस्त रफ्तार से चल रहा है, लेकिन जबलपुर से नैनपुर के बीच ब्रॉडगेज परियोजना पूरी होने के बाद इस रूट पर तीन साल से एक ही पैसेंजर ट्रेन चल रही है। जबकि हर दिन सफर करने वाले यात्रियों की संख्या करीब 05 हजार है।

इसी वजह से जबलपुर से नैनपुर के बीच सफर करने वाले यात्रियों को राहत देने के लिए इस रूट पर एक और ट्रेन चलाने की कवायद शुरू हो गई है। जबलपुर से मंडुआडीह के बीच चलने वाली वीकली ट्रेन को जबलपुर से बढ़ाकर नैनपुर तक ले जाने की तैयारी की जा रही है। पश्चिम मध्य रेलवे के ऑपरेटिंग विभाग ने मंडुआडीह स्पेशल ट्रेन को जबलपुर की बजाए नैनपुर तक ले जाने का प्रस्ताव रेलवे बोर्ड को भेजा है। स्वीकृति मिलते ही इस रूट के यात्रियों को दो यात्री ट्रेनें मिल जाएंगी।

ये है प्रस्ताव : प्रस्ताव यह है कि इस ट्रेन को जबलपुर स्टेशन पर 10 मिनट रोककर नैनपुर रवाना कर दिया जाए, जिससे शाम के वक्त जबलपुर से नैनपुर जाने वाले यात्रियों को राहत मिल जाएगी। वर्तमान में जो ट्रेन चलती है, वह शाम को नैनपुर से जबलपुर आती है। जबकि शाम को जबलपुर से नैनपुर जाने के लिए एक भी ट्रेन नहीं है।

दूसरी ओर नैनपुर से वापस जबलपुर लौटते वक्त यह ट्रेन नैनपुर के यात्रियों को राहत देगी और वहां से भी एक और ट्रेन उन्हें मिल जाएगी। प्रस्ताव पर रेलवे बोर्ड की मोहर बाकी है। जैसे ही स्वीकृति मिलती है, इस ट्रेन को नैनपुर तक दौड़ा दिया जाएगा।

जबलपुर से नैनपुर का रेलवे ट्रैक 120 किलो मीटर का है। इस रूट पर 18 अक्टूबर 2016 से नैनपुर स्पेशल ट्रेन चल रही है, लेकिन इस ट्रेन का समय न तो नैनपुर के लोगों को पसंद आ रहा है न ही जबलपुर के यात्रियों को। दरअसल, यह ट्रेन जबलपुर से सुबह 05.40 पर नैनपुर के लिए रवाना होती है, जबकि इस वक्त सबसे ज्यादा यात्री काम के लिए नैनपुर से जबलपुर आते हैं। वहीं यह ट्रेन शाम साढ़े छह बजे, नैनपुर से जबलपुर के लिए रवाना होती है, जबकि इस वक्त शहर में काम कर लोग नैनपुर लौटना होता है।

जबलपुर-मंडुआडीह का समय : स्पेशल ट्रेन 15118 हर रविवार को सुबह 10 बजे जबलपुर से मंडुआडीह के लिए रवाना होती है और रात 8.25 पर मंडुआडीह पहुंचती है। वहीं हर शनिवार को यही ट्रेन मंडुआडीह से सुबह 8.25 पर जबलपुर के लिए रवाना होती है और शाम 6.50 पर जबलपुर पहुंचती है। इस ट्रेन को नैनपुर तक ले जाना प्रस्तावित है।

ये होगा फायदा : जबलपुर से नैनपुर रूट से सैकड़ों मजदूर हर सुबह काम के लिए जबलपुर आते हैं। वहीं काम करने के बाद शाम का नैनपुर लौटते हैं। इन यात्रियों को एक ट्रेन मिल जाएगी। अभी इन्हें बस या दो पहिया वाहन से यह सफर तय करना होता है। वहीं जब नैनपुर से बालाघाट ब्राडगेज परियोजना पूरी हो जाएगी तो इस ट्रेन को बालाघाट तक बढ़ाना भी आसान होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *