महात्‍मा गांधी की हत्‍या में कोर्ट ने सावरकर को निर्दोष नहीं ठहराया था: तुषार गांधी

 

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

मुंबई (साई)। वीडी सावरकर को भारत रत्‍न देने की मांग और उससे पैदा हुए विवाद के बीच महात्मा गांधी के प्रपौत्र तुषार गांधी ने कहा है कि अदालत ने महात्‍मा गांधी की हत्‍या के मामले में सावरकर को निर्दोष नहीं ठहराया था। उन्‍हें केवल इसलिए छोड़ा गया क्‍योंकि उनके खिलाफ पर्याप्‍त सबूत नहीं थे।

एक कार्यक्रम में बोलते हुए तुषार गांधी ने कहा, ‘सावरकर को भले ही केस में बरी कर दिया गया हो लेकिन कोर्ट ने उन्‍हें निर्दोष नहीं ठहराया था। अदालत ने केवल यही कहा था कि हमारे सामने जो सबूत पेश किए वे उनका (सावरकर का) दोष साबित करने के लिए पर्याप्‍त नहीं हैं। आज जब संघ सावरकर को भारत रत्‍न देने की मांग कर रहा है हमें यह बात ध्‍यान में रखनी चाहिए।

उन्‍होंने आगे कहा, ‘ऐसे समय में जब बापू की हत्‍या के संरक्षक को भारत रत्‍न देने पर विचार हो रहा है, मैं समझता हूं यह महत्‍वपूर्ण है कि हम बापू की हत्‍या के पीछे छिपे मुख्‍य मकसद और साजिश को समझें।

गौरतलब है कि हाल ही में हुए महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव में स्वतंत्रता सेनानी विनायक दामोदर सावरकर एक बड़ा मुद्दा बन गए थे। बीजेपी ने घोषणा की थी कि सत्ता में आने पर वह वीर सावरकर के नाम की सिफारिश देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्‍न के लिए करेगी।