निर्दलीय ने दिखाया काँग्रेस को आईना!

 

 

जिले को लगातार सौगातें देने वाली आयरन लेडी के नाम को किया अमर

(अय्यूब कुरैशी)

सिवनी (साई)। जिले में काँग्रेस का आधार स्तंभ रहीं, पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व.विमला वर्मा के नाम को अजर अमर करने में काँग्रेस के स्थानीय क्षत्रपों ने तो सुध नहीं ली, वरन बरघाट की नगर परिषद के निर्दलीय अध्यक्ष रंजीत वासनिक ने स्टेडियम के प्रवेश द्वार को सुश्री विमला वर्मा का नाम देकर, काँग्रेस को आईना दिखाया है।

ज्ञातव्य है कि सुश्री विमला वर्मा केवलारी से लगतार विधायक रहीं हैं। वे प्रदेश में विभिन्न विभागों की कबीना मंत्री भी रहीं हैं। उन्होंने प्रदेश में मंत्री रहते हुए जिले को अनेक सौगातें दी हैं। जिले में विकास के जो भी सौपान हैं उनमें से अधिकांश सुश्री विमला वर्मा की ही देन हैं।

यहाँ यह उल्लेखनीय होगा कि सिवनी की संसद सदस्य चुने जाने के उपरांत जब वे केंद्र में मंत्री बनीं थीं, उस दौरान उनके द्वारा अपने निजि खर्च पर प्रियदर्शनी इंदिरा गांधी की एक कांस्य प्रतिमा तैयार करवायी गयी थी। 1995 में तैयार करवायी गयी इस कांस्य प्रतिमा को वे जिला अस्पताल में लगवाना चाहतीं थीं।

विडंबना ही कही जायेगी कि उनके सक्रिय राजनीति से किनारा करने के बाद जिले में काँग्रेस के आलंबरदारों ने उनकी इस इच्छा को पूरा करना मुनासिब नहीं समझा। इंदिरा गांधी की कांस्य प्रतिमा लगभग ढाई दशकों तक सुश्री विमला वर्मा के आवास गिरधार भवन में रखी रही, जिसे उनके अवसान के बाद ही अस्पताल में स्थापित करवाया जा सका।

काँग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने पहचान उजागर न करने की शर्त पर समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया से चर्चा के दौरान कहा कि सुश्री विमला वर्मा केवलारी से विधायक रहीं हैं। इस लिहाज़ से उनके बाद केवलारी के विधायक बने स्व.हरवंश सिंह या रजनीश सिंह के द्वारा उनके नाम को चिरस्थायी बनाने के लिये प्रयास किये जाने चाहिये थे।

उक्त नेता ने कहा कि बरघाट की नगर पंचायत के निर्दलीय अध्यक्ष रंजीत वासनिक के द्वारा हाल ही में बरघाट में बनाये गये स्टेडियम के प्रवेश द्वार क्रमाँक एक को सुश्री विमला वर्मा के नाम पर किया जाकर सुश्री विमला वर्मा को सच्ची श्रृद्धांजलि अर्पित की गयी है, जो काँग्रेस के क्षत्रपों के लिये आईना दिखाने जैसा कदम माना जा सकता है।

उक्त नेता ने कहा कि सिवनी को जिला अस्पताल जैसी महत्वपूर्ण सौगात देने वालीं सुश्री विमला वर्मा के अवसान के उपरांत जिला काँग्रेस के अध्यक्ष और सुश्री विमला वर्मा से सियासत का ककहरा सीखने वाले राज कुमार खुराना अब तक जिला अस्पताल में सुश्री विमला वर्मा की प्रतिमा तो दूर, एक वार्ड का नाम भी उनके नाम पर करवाने में सफल नहीं हो पाये हैं।

उक्त नेता ने कहा कि काँग्रेस का हर कार्यकर्त्ता यही चाहता है कि इंदिरा गांधी जिला अस्पताल में सुश्री विमला वर्मा की प्रतिमा लगे या जिला काँग्रेस कमेटी के बन रहे भवन का नाम विमला वर्मा के नाम पर किया जाये, किन्तु काँग्रेस के वर्तमान सरमायादारों की सहमति के बिना ये दोनों काम संभव प्रतीत नहीं हो पायेंगे।