बजने लगे काँग्रेस में बर्तन!

 

 

युवक काँग्रेस की कार्यकारिणी हुई निरस्त

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। काँग्रेस के अंदर वर्चस्व को लेकर चल रही रार अब सड़क पर आती दिख रही है। जिला स्तर पर गुटों में बंटी काँग्रेस में अब शह और मात का खेल आरंभ हो गया है, जिससे काँग्रेस के कार्यकर्त्ताओं में ऊहापोह की स्थिति निर्मित होती जा रही है।

जिला काँग्रेस की ओर से आनंद पंजवानी के हवाले से जारी विज्ञप्ति के अनुसार युवक काँग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष ओम उपाध्याय के द्वारा 02 नवंबर को युुवक काँग्रेस की कार्यकारिणी की घोषणा एवं नियुक्ति पत्र एवं सूची सोशल मीडिया में डाले जाने के बाद जो युवा काँग्रेसी लगातार पार्टी हित में काम करते आये हैं उनका नाम इसमें न होने से, इसकी शिकायत प्रदेश एवं राष्ट्रीय स्तर के पदाधिकारियों से की गयी थी।

विज्ञप्ति के अनुसार इन शिकायतों के उपरांत राष्ट्रीय एवं प्रदेश काँग्रेस के नेत्तृत्व के द्वारा जिला युवक काँग्रेस संगठन को निर्देश दिये गये हैं कि संगठनों में पदों पर नियुक्ति का क्षेत्राधिकार कार्यकारी अध्यक्ष का नहीं है, इसलिये इन सभी नियुक्तियों को निरस्त कर दिया गया है।

एक युवा काँग्रेसी ने पहचान उजागर न करने की शर्त पर समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि इस तरह का मामला काँग्रेस के संगठन के अंदर का मसला था, इसे मीडिया में सार्वजनिक नहीं किया जाना चाहिये था। अगर सार्वजनिक करना भी था तो कम से कम उन युवा काँग्रेसियों के नामों को उजागर किया जाना चाहिये था जो लगातार पार्टी हित में काम करते आये हैं और उन्हें इसमें स्थान नहीं मिला है।

उक्त नेता का कहना था कि जिला काँग्रेस में ही अगर देखा जाये तो सालों से काँग्रेस का झण्डा और डण्डा लेकर लेकर चलने वाले खाटी काँग्रेस के कार्यकर्त्ताओं को दरकिनार कर गणेश परिक्रमा करने वाले काँग्रेस के कार्यकर्त्ताओं को बहुत ही शक्तिशाली बना दिया गया है। उक्त नेता ने कहा कि इस तरह की कवायद से जिले में काँग्रेस का जनाधार और कम हो जाये तो किसी को आश्चर्य नहीं होना चाहिये।