मातृधाम के पास बाघ की दहशत!

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। आबादी जैसे – जैसे बढ़ती जा रही है, वैसे – वैसे जंगलों का रकबा भी घटता जा रहा है। इसका दुष्परिणाम यह सामने आ रहा है कि जंगली जानवर अब आबादी की ओर रूख करने लगे हैं।

जिला मुख्यालय से छिंदवाड़ा रोड पर लगभग दस किलोमीटर दूर कारीरात ओर मातृधाम में बाघ की पदचाप सुनायी देने के कारण लोगों में दशहत पसरी हुई है। रात में बाघ की दहाड़ से ग्रामीण सहम जा रहे हैं। बाघ ने रविवार की रात कारीरात में गाय का शिकार किया है। इसकी सूचना के बाद मौके पर पहुँचे सिवनी परिक्षेत्र के वन अमले ने पंचनामा की कार्यवाही कर मृत गाय के अवशेष को जला दिया है। इसकी पुष्टि परिक्षेत्र अधिकारी के.के. तिवारी ने की है।

सिवनी परिक्षेत्र अधिकारी श्री तिवारी ने बताया कि सोमवार को सूचना मिलने के बाद मौके पर वन अमले की तैनाती कर दी गयी है। ग्रामीणों को समझाईश दी गयी है। सुबह के समय वे स्वयं गश्त के लिये गये थे और उन्होंने अधिकारियों, कर्मचारियों को लगातार ही गश्त के लिये निर्देशित किया है।

उन्होंने बताया कि क्षेत्र में बाघ के पगमार्क मौके पर मिले हैं। अनुमान लगाया जा रहा है कि बाघ मातृधाम और कारीरात से लगे ग्राम के मक्के खेत में कहीं छुपा है। ग्रामीणों को संबंधित क्षेत्र में जाने से मना करते हुए सतर्क रहने को कहा गया है।