अयोध्या पर कभी भी फैसला

 

 

 

 

डीजीपी बोले- 500 से ज्यादा गिरफ्तार, सुप्रीम कोर्ट ने आज बुलाया

(ब्यूरो कार्यालय)

लखनऊ (साई)। अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला अब कभी भी आने की उम्मीद है। ऐसे में उत्तर प्रदेश और खास तौर पर अयोध्या में विशेष सतर्कता बरती जा रही है।

यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि पुलिस करीब 1,659 लोगों के सोशल मीडिया अकाउंट्स पर नजर रख रही है और जरूरत पड़ी तो इंटरनेट सेवाएं सस्पेंड भी की जा सकती हैं। इस बीच, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने आज दोपहर 12 बजे यूपी के डीजीपी और मुख्य सचिव को बुलाया है। इस दौरान अयोध्या में सुरक्षा के हालात पर चर्चा होगी।

उधर, डीजीपी ने बताया है कि पुलिस फोर्स को साफ संदेश है कि हर कीमत पर शांति बरकरार रहनी चाहिए। हम पैदल गश्त कर रहे हैं। जिलाधिकारी धर्मगुरुओं के साथ बैठक कर रहे हैं। हमने बीते कुछ दिनों में करीब 6000 शांतिवार्ताएं की हैं और 5800 धर्मगुरुओं से मिले हैं। हम सेना और वायुसेना के भी संपर्क में हैं।

‘500 लोगों को भेजा जेल, 10 हजार रेडार पर

DGP ओपी सिंह ने कहा कि हमारे रेडार पर अभी तक करीब 10 हजार लोग आए हैं और हमने उन्हें सीआरपीसी के तहत पाबंद किया है, जिससे वे शांतिभंग न कर सकें। इनमें से 500 से ज्यादा लोगों को जेल भेजा जा चुका है। फील्ड के बाद हमारा सबसे ज्यादा ध्यान सोशल मीडिया पर है और इसके लिए बाकायदा एक टीम को लगाया गया है। अभी तक ऐसे 1,659 लोगों के अकाउंट्स को हमने निगरानी में रखा है, जिनसे सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने वाली पोस्ट की जा सकती हैं।

जरूरत पड़ने पर लग सकता है इंटरनेट पर प्रतिबंध

क्या जरूरत पड़ने पर प्रदेश में इंटरनेट पर भी प्रतिबंध लग सकता है? इस सवाल पर डीजीपी ने बताया, ‘अगर हमें जरूरत महसूस हुई तो बिल्कुल इंटरनेट सस्पेंड किया जा सकता है। मगर अभी ऐसी कोई जरूरत नहीं लगती।उन्होंने आगे बताया, ‘हमने अयोध्या समेत कुछ संवेदनशील जगहों की पहचान की है और उनकी बैरिकेडिंग कर आने-जाने वाले लोगों की तलाशी ली जा रही है।

अफवाहों को रोकना सबसे बड़ी प्राथमिकता

डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि भीड़ नियंत्रण और अफवाहों को बढ़ने से रोकना हमारी सबसे बड़ी प्राथमिकता है। हमने केंद्र से अर्धसैनिक बलों की मांग की हैं और अभी तक 40 कंपनियां अर्धसैनिक बल की हमें मिल चुकी हैं। 70 कंपनी बल और चाहिए होगा। ये कंपनियां पीएसी और पुलिस के अलावा तैनात रहेंगी।

अयोध्या में शांति से निपटेंगे सभी पर्व-त्योहार

उन्होंने कहा कि हमारे सामने दोहरी चुनौती है क्योंकि अयोध्या में यह समय त्योहारों का है। इस वक्त वहां पंचकोसी परिक्रमा चल रही है। 10 नवंबर को ईद-ए-मिलाद है और 11-13 नवंबर तक कार्तिक पूर्णिमा मेला है, जहां श्रद्धालु सरयू नदी में स्नान करेंगे। हम पूरी तरह तैयार हैं और सभी आयोजन शांतिपूर्वक निपटेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *