यह पूर्णता का क्षण है, आंदोलन से जुड़ना सौभाग्यपूर्ण  : आडवाणी

 

 

 

 

(ब्यूरो कार्यालय)

नई दिल्‍ली (साई)। अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का बीजेपी के वयोवृद्ध नेता लालकृष्ण आडवाणी ने स्वागत किया है। अयोध्या में राम मंदिर के लिए राम रथ यात्रा निकालने वाले इस दिग्गज नेता ने एक बयान जारी कर कहा कि सुप्रीम कोर्ट के इस ऐहिताहिक फैसले से वह बेहद खुश हैं।

आडवाणी ने कहा कि अब अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होगा। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की बेंच ने अयोध्या मामले पर जो फैसला सुनाया वह ऐतिहासिक है। आडवाणी ने कहा कि यह पूर्णता का क्षण है क्योंकि भगवान ने मुझे भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के बाद दूसरे सबसे बड़े आंदोलन में शामिल होने का अवसर दिया। सुप्रीम कोर्ट के फैसले आज यह संभव हुआ।

बता दें कि वर्षों तक चली कानूनी लड़ाई, 40 दिन तक लगातार मैराथन सुनवाई के बाद आज अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का बहुप्रतीक्षित फैसला आ गया है। राजनीतिक रूप से संवेदनशील राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की पीठ ने सर्वसम्मति यानी 5-0 से ऐतिहासिक फैसला सुनाया। निर्मोही अखाड़े के दावे को खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने रामलला विराजमान और सुन्नी वक्फ बोर्ड को ही पक्षकार माना।

आखिर में सुप्रीम कोर्ट ने रामलला विराजमान के पक्ष में फैसला सुनाया। कोर्ट ने साथ में यह भी आदेश दिया कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को अयोध्या में ही कहीं और 5 एकड़ जमीन दी जाए। कोर्ट ने केंद्र सरकार को आदेश दिया है कि वह मंदिर निर्माण के लिए 3 महीने में ट्रस्ट बनाए। इस ट्रस्ट में निर्मोही अखाड़े को भी प्रतिनिधित्व देने को कहा है।