जर्जर टंकी से हादसे की आशंकाएं!

 

(ब्यूरो कार्यालय)

बण्डोल (साई)। क्षेत्र में तीन दशक से अधिक पुरानी पानी की एक टंकी लोगों के लिये हर समय खतरा बनी हुई है। इस टंकी से कभी भी कोई बड़ा गंभीर हादसा हो सकता है क्योंकि यह टंकी काफी जर्ज़र अवस्था में पहुँच चुकी है।

यहाँ पर बच्चों की एक प्राथमिक शाला भी है जिसके कारण मासूमों का आना जाना यहाँ से लगातार होता रहता है। ग्राम पंचायत के पदाधिकारियों का कहना है कि वे इस संबंध में कई बार अधिकारियों से निवेदन कर चुके हैं लेकिन आज तक इस टंकी को डिस्मेंटल नहीं किया गया है।

मासूमों पर हर समय मण्डरा रहा है खतरा : बण्डोल थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम बांकी में 25 से 30 वर्ष पूर्व बनी हुई पानी की टंकी, जो प्राथमिक शाला के बिल्कुल समीप है वह पूरी जर्जर अवस्था में पहुँच चुकी है। प्राथमिक शाला के समीप होने के कारण छोटे-छोटे बच्चों का आना – जाना तथा खेलना इस क्षेत्र में लगा रहता है।

जर्जर अवस्था में पानी की टंकी कभी भी भरभरा कर गिर सकती है जिसके कारण बहुत बड़ी दुर्घटना कारित हो सकती है। जिला कलेक्टर तथा पीएचई के अधिकारियों से हरि जायसवाल, कोदू लाल जंघेला, लोकेश ठाकुर, ददुआ प्रसाद ठाकुर, पूर्व सरपंच पोप सिंह, श्याम लाल जंघेला, रघुराज बघेल, किलविश ठाकुर सहित अन्य ग्रामीणों ने माँग की है कि जर्जर अवस्था में बची हुई पानी की टंकी को फौरन जमींदोज कर दिया जाये जिससे कोई अनहोनी घटना ना हो सके।

ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष हरि जायसवाल ने कलेक्टर से माँग की है कि शीघ्र ही जर्जर अवस्था को प्राप्त हो चुकी पानी की इस टंकी को डिस्पोज करने के लिये अधिकारियों को निर्देश दिये जायें।

हमने इस टंकी के संबंध में कई दफा संबंधित विभाग के अधिकारियों से निवेदन किया है लेकिन आज तक इस टंकी को डिस्मेंटल नहीं किया गया है. इस टंकी के कारण हर समय खतरे की आशंका बनी हुई है.

नारायण सिंह बघेल,

सचिव, बांकी.